Thursday, July 25, 2024
Spirituality

Hanuman Chalisa : रोजाना हनुमान चालीसा पढ़ने से मिलेंगे अचूक फायदे, जानें –

Hanuman Chalisa : अगर आप अपने आराध्य देव या ईष्ट देव की पूजा करते हैं तो उनकी आरती या चालीसा का भी महत्व होता है। बिना आरती या चालीसा के कोई भी पूजा अधूरी मानी जाती है। इसी तरह अगर आप हनुमान जी की पूजा करते हैं तो हनुमान चालीसा के बिना उनकी पूजा अधूरी मानी जाती है। कवि तुलसीदास जी का कहना है कि हनुमान चालीसा का शास्त्रों में बहुत अधिक महत्व है।

ऐसा कहा जाता है कि अगर किसी भी व्यक्ति को किसी बात का भय है या फिर चिंता है तो उसे हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए जिससे उसे सकारात्मकता, साहस और सुरक्षा मिलती है। इतना ही नहीं बल्कि हनुमान चालीसा का पाठ करने से आपके सभी संकट को दूर हो जाते हैं और आपको किसी भी चीज का डर नहीं रहता है। आइए जानते हैं कि हर रोज हनुमान चालीसा का पाठ क्यों किया जाता है और इसके क्या लाभ होते हैं?

हनुमान चालीसा का पाठ करने के लाभ

  • अगर आपके घर में काफी समय से कोई लड़ाई झगड़ा चल रहा है तो इसे दूर करने के लिए आपको हर मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए।
  • अगर कोई व्यक्ति रोज हनुमान चालीसा का पाठ करता है तो उसकी सभी दुविधाएं और संकट दूर हो जाते हैं।
  • अगर कोई रोज हनुमान चालीसा का पाठ करता है तो उसके मन से नकारात्मक उर्जा समाप्त हो जाती है और भूत प्रेत का भी कोई डर नहीं रहता है।
  • आपको पता ही है कि हनुमान जी अति बलशाली और परमवीर है। इनकी पूजा करने और हनुमान चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति को शक्ति और बल की प्राप्त होती है।
  • इसके साथ ही हनुमान चालीसा का रोज पाठ करने से आपको हर बीमारी से छुटकारा मिलता है। रोजाना हनुमान चालीसा पाठ करने से आपका हर दुख और पीड़ा दूर होती है।
  • अगर आप रोज हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं जो आपके मन में आ रही सभी नकारात्मक चीजें दूर होती है और सकारात्मकता बढ़ती है। उसके साथ ही आपकी चिंता और तनाव दूर हो जाते हैं।
  • अगर आप हर रोज हनुमान चालीसा का पाठ करते है तो आपकी बुद्धि भी उनकी तरह तेज हो जाती है और उनका आशीर्वाद बना रहता है।

Durga Partap

दुर्गा प्रताप पिछले 1 सालों से बतौर Editor में के रूप में thebegusarai.in से जुड़े। इन्हें बिजनेस, ऑटोमोबाइल्स और खेल जगत से जुड़ी खबरे को गहराई से लिखने में काफी दिलचस्पी है। पिछले 5 साल से वह कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लगातार योगदान देते रहे हैं। दुर्गा ने MDSU से BCA की पढ़ाई पूरी की है।