Vande Bharat Train के एक कोच में कितनी सीटें होती हैं? बनाने में आता है इतना खर्चा……

Vande Bharat : हमारे देश में रेलवे (Railway) काफी तेजी से प्रगति कर रहा है। इसी तरह रेलवे ने कई सारी नई ट्रेनों का संचालन भी शुरू कर दिया है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने रेलवे को नई दिशा देते हुए सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत (Vande Bharat Train) का संचालन शुरू किया है। उन्होंने ही पहली बार वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई है और इसके बाद कई सारी वंदे भारत ट्रेन शुरू हो चुकी है।

वंदे भारत वर्तमान समय में रेलवे (Railway) की सबसे प्रीमियम ट्रेन है। यह भारतीय रेलवे की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन है और इसमें कई सारी सुविधा यात्रियों को दी गई है। अगर वंदे भारत ट्रेन (Vande Bharat) की टॉप स्पीड के बारे में बात करें तो यह 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ सकती है।

जानकारी के लिए बता दे कि भारतीय रेलवे की वंदे भारत ट्रेन में 16 AC इकोनॉमी कोच है। इनमे से 2 एग्जीक्यूटिव क्लास के कोच भी शामिल है। इस ट्रेन में लोग काफी सारी सुविधाओं का फायदा ले सकते हैं। आपको बता दे, वंदे भारत ट्रेन (Vande Bharat) के AC इकोनॉमी कोच में बैठने के लिए कुल 78 सीटे दी गई है। जबकि इस ट्रेन के एक्जीक्यूटिव क्लास कोच में आपको बैठने के लिए 58 सीट दी गई है।

इसके अलावा देश की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस में ऑटोमेटिक दरवाजे भी लगे हुए हैं। वंदे भारत (Vande Bharat) ट्रेन में लगे हुए यह ऑटोमेटिक दरवाजे मेट्रो ट्रेन (Metro Train) की तरह ही अपने आप खुलते और बंद होते हैं। वंदे भारत ट्रेन (Vande Bharat) के बारे में तो सभी लोगों ने सुना है लेकिन इसे बनाने में कितना खर्च आता है.

इस ट्रेन को चेन्नई के इंटीग्रल कॉस्ट फैक्ट्री में बनाया गया है और इसे बनाने में लगभग 100 करोड़ की लागत आई है। इसके अलावा सामान को रखने के लिए प्रत्येक कोच में मॉड्यूलर रैक दी गई है। इसके साथ ही हर सीट पर आपको चार्जिंग सॉकेट भी दिया गया है।