Friday, July 19, 2024
Railway News

Train में इतने साल के बच्चे Free में कर सकते हैं सफर, जानें – Railway का ये नया नियम…

Railway : देश में हर रोज करोड़ो लोग रेलवे (Railway) से सफर करते हैं और अपने गंतव्य स्थान तक जाते हैं। देश के लोगों को सबसे सस्ता और सुलभ साधन ट्रेन ही लगता है इसलिए हर रोज इसमें यात्रियों की भीड़ देखने को मिलती हैं।

लेकिन, अगर आप ट्रेन से सफर कर रहे हैं तो आपको पहले इसके लिए टिकट लेनी पड़ेगी। लेकिन कुछ रूट ऐसे भी हैं, जहां के लिए ट्रेन की टिकट आपको जल्दी से नहीं मिल पाती है। लेकिन आप घर बैठे IRCTC की वेबसाइट या ऐप से ट्रेन की टिकट बुक कर सकते है।

लेकिन कई बार लोग अपने बच्चों को साथ में लेकर ट्रेन का सफर करते है। उन लोगों के मन में यह सवाल तो आता ही है कि हमें बच्चों की टिकट लेनी चाहिए या नहीं? आपको बता दे, रेलवे (Railway) की तरफ से बच्चों की टिकट के लिए कुछ नियम बनाए गए हैं जिनके बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए। आइये आपको बताते हैं कि कितने साल तक के बच्चे ट्रेन में मुफ्त में सफर कर सकते हैं और उनकी टिकट लेने की जरूरत नहीं होती है?

जाने पहला नियम

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि रेलवे (Railway) ने हर एक चीज के लिए नियम बना रखा है और उसमें बच्चों की टिकट के लिए भी नियम बनाया हुआ है। रेलवे के नियमों के अनुसार जिन बच्चों की उम्र 1 साल से लेकर 4 साल तक है, उनकी टिकट लेने की जरूरत नहीं पड़ती है। ऐसे बच्चों के लिए ट्रेन में रिजर्वेशन कराना भी जरूरी नहीं है।

दूसरा नियम

रेलवे (Railway) के नियमों के अनुसार अगर किसी बच्चे की उम्र 5 से 12 साल है और वह ट्रेन में सफर कर रहा है तोइनके लिए ट्रेन टिकट लेना जरूरी है। लेकिन अगर आप 5 से 12 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए सीट रिजर्व नहीं करना चाहते हैं तो उनके लिए हाफ टिकट ले सकते हैं।

तीसरा नियम

अगर आपके बच्चे की उम्र 5 से 12 साल है और अगर आप उनके लिए हाफ टिकट (Half Ticket) लेते हैं तो ऐसे बच्चों को माता-पिता के साथ बैठकर ही सफर करना होता है। उनके लिए अलग से सीट रिजर्व नहीं होती है। रेलवे (Railway) के नियम के अनुसार अगर आप उनके लिए अलग से सीट चाहते हैं तो आपको पूरा टिकट लेना होगा।

Durga Partap

दुर्गा प्रताप पिछले 1 सालों से बतौर Editor में के रूप में thebegusarai.in से जुड़े। इन्हें बिजनेस, ऑटोमोबाइल्स और खेल जगत से जुड़ी खबरे को गहराई से लिखने में काफी दिलचस्पी है। पिछले 5 साल से वह कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लगातार योगदान देते रहे हैं। दुर्गा ने MDSU से BCA की पढ़ाई पूरी की है।