Gender Change : कैसे होता है महिला और पुरुष का जेंडर चेंज? जानें – कितना खर्चा होता है…..

Gender Change : एक बड़ी पुरानी कहावत है लोग कहते हैं प्यार में सब कुछ जायज होता है. आज इतिहास में देखा जाए तो ऐसे हजारों से देखने को मिलते हैं जहां पर लोगों के प्यार की मिसाल देखने को मिलती है. एक ऐसी घटना राजस्थान की है.

जहां मीरा नाम की एक लड़की ने खुद का ही जेंडर चेंज करवा दिया है. जेंडर चेंज करने के बाद स्टूडेंट कल्पना फौजदार से शादी भी कर ली है. हालांकि का कोई नई घटना नहीं है इससे पहले पश्चिम बंगाल में भी इसी तरह के मामले सामने आ चुके हैं.

क्या जेंडर चेंज करना होता है आसान ?

डॉक्टर जेंडर चेंज (Gender Change) को लेकर बताते हैं कि, इस प्रकार के ऑपरेशन में लड़की को लड़का और लड़के को लड़की की तरह जीना होता है. यह लक्षण कई बार तो 12 से 16 की उम्र में ही देखने को मिल जाता है लेकिन वह अपने माता-पिता से इस संदर्भ में बात करने से डरते रहते हैं.

आज देश में कई सारे ऐसे लड़के और लड़कियां हैं जो इस समस्या से गुजर रहे हैं लेकिन वह अपने पेरेंट्स से इस मामले में बात करने से हिचकिचा रहे हैं. लेकिन अब धीरे-धीरे ऐसे लड़के और लड़कियां हिम्मत जताकर अपने जेंडर को सर्जरी कर कर चेंज कर ले रहे हैं.

क्या है जेंडर चेंज (Gender Change) करने की पूरी प्रक्रिया ?

जेंडर चेंज सर्जरी कराना एक जटिल प्रक्रिया है, इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए लाखों रुपए खर्च करना पड़ता है. इस सर्जरी के लिए लड़के और लड़कियों को पहले शारीरिक तौर पर और मानसिक तौर पर मजबूत होना पड़ता है.

यह सर्जरी सर्विस हर जगह उपलब्ध नहीं है लेकिन कुछ मेट्रो सिटी में इसके अस्पताल उपलब्ध हैं. जेंडर चेंज करने का ऑपरेशन की प्रक्रिया इतनी आसान नहीं होती है इसमें काफी लंबा समय लगता है. इस प्रक्रिया में फीमेल को करीबन 32 तरह की प्रक्रियाएं से गुजरना पड़ता है. जबकि पुरुष को केवल 18 चरण में ही सफलता मिल जाती है.

  • जेंडर चेंज (Gender Change) करने की प्रक्रिया में सबसे पहले डॉक्टर लड़के और लड़की की मानसिक टेस्ट करता है.
  • इसके बाद लड़के को लड़की वाली हार्मोन के लिए इंजेक्शन और दवाइयां के माध्यम से उसके शरीर में हार्मोन पहुंचना है.
  • हार्मोन पहुंचने के लिए करीब 3 से 4 डोज इंजेक्शन में हार्मोन डालकर शरीर में पहुंचाया जाता है.
  • इसके बाद पुरुष या फिर महिला के प्राइवेट पार्ट और चेहरे की सीट को बदल दिया जाता है.
  • अगर कोई महिला पुरुष बनना चाहती है तो सबसे पहले उसके ब्रेस्ट को हटा दिया जाता है.
  • इसके बाद महिला के प्राइवेट पार्ट को पुरुष प्राइवेट पार्ट में बदल जाता है.
  • जबकि पुरुष से महिला बनने वाले व्यक्ति को उसके शरीर से लिए गए मानस के अंग से ही महिला का अंग बना दिया जाता है.
  • इस सर्जरी के बाद दोनों को करीब 4 से 5 महीने के लिए समय दिया जाता है.