12वीं के बाद कैसे बने डॉक्टर और इंजीनियर? जानें- NEET और JEE एंट्रेंस एग्जाम बारे में…

NEET And JEE Difference : NEET और JEE देश के सबसे कठिन प्रवेश परीक्षाओं में से एक है। हमेशा यह बहस छिड़ी रहती है की NEET या JEE में से कौन सी परिक्षा ज्यादा कठिन है? और दोनों में अंतर क्या है। यदि आपको भी दोनों प्रवेश परीक्षाओं के बीच का अंतर नहीं पता तो हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे।

NEET और JEE में क्या है अंतर

NEET (National Eligibility Cum Entrance Test) हिंदी में जिसे राष्ट्रीय योग्यता सह प्रवेश परिक्षा कहते हैं। मीडियल कॉलेज में एडमिशन के लिए यह परिक्षा हर साल आयोजित की जाती है। JEE का फूल फॉर्म Joint Entrance Exam (संयुक्त प्रवेश परक्षा) होता है। इस परिक्षा को पास करने के बाद IIT,NIT, Tripal IT,JFTI कॉलेज में दाखिला मिलता है।

NEET और JEE में सबसे बड़ा अंतर यह है की NEET का एग्जाम मेडिकल बैकग्राउंड वाले बच्चे के लिए है। वहीं JEE की प्रवेश परिक्षा इंजरिनिंग के छात्रों के लिए होती है। NEET के छात्रों का मैन सब्जेक्ट केमिस्ट्री, फिजिक्स और बायोलॉजी होता है। जबकि JEE वाले छात्रों को फिजिक्स,केमिस्ट्री और मैथ्स पढ़ना होता है।

क्या है एज लिमिट?

NEET की प्रवेश परीक्षा देकर आप MBBS या BDS के अलावा और भी कई मेडिकल कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। NEET का एग्जाम दे रहे अभ्यर्थियों को हमेशा एज लिमिट को लेकर डाउट रहता है। यदि आप भी यह जानना चाहते है कि NEET की परिक्षा के लिए आप किस उम्र तक योग्य हैं। तो हम आपको बता दें कि NEET की परीक्षा छात्र 12वीं के बाद दे सकता है। वहीं छात्र NEET की परीक्षा दे सकता है जिसने 12वीं बायोलॉजी से किया हो। छात्र की मिनिमम एज 17 साल हो।

NEET की परिक्षा कितनी साल की उम्र तक दे सकते यह बात अब तक तय नहीं है। NEET एग्जाम देने की कोई उम्र सीमा तय नहीं है। वहीं JEE की परीक्षा दे रहे छात्रों को गणित विषय से 12वीं पास करना अनिवार्य है। JEE में दो प्रकार की परिक्षा होती है JEE Mains और JEE Advance। एज लिमिट की बात करें तो JEE की परिक्षा के लिए भाई आयु सीमा तय नहीं की गई है। छात्र कितनी बार भी JEE का एग्जाम दे सकते हैं।

JEE या NEET? कौन सा है ज्यादा कठिन

JEE या NEET में से कौन सी परीक्षा ज्यादा कठिन है यह बताना थोड़ा मुश्किल है। क्योंकि यह दोनों ही परीक्षाएं अलग-अलग क्षेत्र में जाने लेने के लिए है। NEET के लिए बायोलॉजी विषय पढ़ना अनिवार्य है। वहीं JEE की परीक्षा पास कर इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लेने के लिए मैथ्स मैन सब्जेक्ट के रूप में रखना जरूरी है। इसलिए इसकी तुलना नहीं की जा सकती। दोनों ही परिक्षा अहम है।