Thursday, July 25, 2024
Business

किसी के Loan में गारंटर बन गए और वो लोन न चुकाए तो क्या होगा? आप पर आएगी ये मुसीबत!

Loan Guarantor : आज के समय में हर कोई व्यक्ति अपनी जरूरत के मुताबिक लोन लेता है चाहे वह बड़ी रकम हो या फिर छोटी। लेकिन लोन लेने के लिए हमेशा एक गारंटर की जरूरत होती है। इसके बाद ही आपको जाकर आसानी से लोन मिल पाता है। लोन लेना एक बड़ी प्रक्रिया है और इसमें कई सारी चीजे बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा देखी जाती है।

हर कोई किसी लोन का गारंटर नहीं बनता है। अगर कोई भरोसे वाला व्यक्ति है तो ही वह इसके लिए जिम्मेदारी लेता है। क्योंकि लोन गारंटर की भी लोन दिलाने की जिम्मेदारी बन जाती है। अगर लोन लेने वाले व्यक्ति ने लोन नहीं चुकाया तो गारंटर के लिए मुसीबत बढ़ जाती है। आइये आपको बताते है कैसे…..

लोन गारंटर को भरने होंगे पैसे

अगर आप किसी व्यक्ति को गारंटर बनाकर लोन दिलवाते हैं और वह व्यक्ति लोन चुकाने में असफल रहता है या फिर मना कर देता है तो आपके लिए मुसीबत खड़ी हो जाती है। इसके लिए इंडियन कांट्रैक्ट एक्ट के 128 के तहत लोन लेने वाले व्यक्ति का गारंटर के साथ एक तरह से को एप्लिकेंट होता है।

जब तक कि कॉन्ट्रैक्ट में कुछ अलग से क्लोज ना जोड़े गए हो। इसका मतलब अगर लोन लेने वाले व्यक्ति ने बकाया लोन और ब्याज की राशि नहीं चुकाई है तो लोन की बाकी रकम और ब्याज की राशि चुकाने की जिम्मेदारी लोन गारंटर की बन जाती है।

ऐसे में क्या करें गारंटर?

सबसे पहले तो आपको उस व्यक्ति का लोन गारंटर बनना चाहिए जो आपका जानकार हो। इसलिए अगर बाद में ऐसी कोई स्थिति आती है तो सूझबूझ या बात करके उस परेशानी से बाहर निकल सके। अगर आप किसी दोस्त के लोन के गारंटी बनते हैं या किसी रिश्तेदार के तो समय-समय पर उनसे लोन के बारे में पूछते रहा करें, क्या वह समय पर उसकी किश्ते भर रहे है कि नहीं?

अगर कोई व्यक्ति लोन नहीं चुका पाता है तो इससे लोन गारंटर का भी सिबिल स्कोर खराब रहता है। इसके बाद भविष्य में उसे लोन मिलने की संभावना भी कम हो जाती है। बता दें कि गारंटर के पास इंडियन कांट्रैक्ट एक्ट के तहत यह अधिकार होता है कि वह लोन लेने वाले व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज कर सकता है और खुद को इस परिस्थिति से बचा सकता है।

Durga Partap

दुर्गा प्रताप पिछले 1 सालों से बतौर Editor में के रूप में thebegusarai.in से जुड़े। इन्हें बिजनेस, ऑटोमोबाइल्स और खेल जगत से जुड़ी खबरे को गहराई से लिखने में काफी दिलचस्पी है। पिछले 5 साल से वह कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लगातार योगदान देते रहे हैं। दुर्गा ने MDSU से BCA की पढ़ाई पूरी की है।