Thursday, July 25, 2024
World

Chicken Rate : पाकिस्तान में क्या है चिकन का रेट? भारत से सस्ता या महंगा? जानिए-

Chicken Rate : दुनिया के अलग-अलग देश में हर चीज के अलग-अलग कीमत होती है। कहीं पर कोई चीज महंगी है तो कहीं पर वह सस्ती मिल जाती है। जिस चीज का उत्पादन जिस जगह ज्यादा होता है, वहां पर उसकी कीमत कम होती है और जहां पर उसकी डिमांड ज्यादा होती है, वहां पर उसकी कीमत ज्यादा होती है। आज ऐसी ही एक चीज की कीमत हम आपको बताने जा रहे हैं।

आज इस आर्टिकल के तहत हम आपको चिकन के बारे में बताने जा रहे है। दरअसल, हमारे देश में कई सारे लोग हैं जो चिकन खाते हैं वो लोग मांसाहारी कहलाते हैं। लेकिन आज हम भारत और पाकिस्तान के बीच की बात करने वाले हैं। आज हम आपको बताने वाले हैं कि पाकिस्तान में 1 किलो चिकन की क्या कीमत है और भारत में 1 किलो चिकन की कीमत में उसका कितनी अंतर है?

आपकी जानकारी मे लिए बता दें कि हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में हर साल 122 करोड़ किलो चिकन का उत्पादन किया जाता है। पाकिस्तान में भी काफी ज्यादा मात्रा में चिकन खाया जाता है। आपको बता दें डाटा सेंटर की एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में चिकन की कीमत 750 पाकिस्तान रुपये प्रति किलो है।

लेकिन हमारे देश के मामले में पाकिस्तान की कीमत के हिसाब से थोड़ा अलग अंतर हो जाता है। आपको बता दें भारत में पाकिस्तान के 750 पाकिस्तानी रुपये की कीमत 222.8 भारतीय रुपये बनते है। चिकन रेट टुडे पोर्टल के अनुसार भारत में एक किलो चिकन की औसत कीमत 165 रुपये है।

बोनलेस चिकन की कीमत

आपको बता दें हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में बोनलेस चिकन की कीमत 1100 पाकिस्तान रुपये प्रति किलो है। ये कीमत भारतीय मुद्रा के अनुसार 326.78 रुपये होती है। भारत में बोनलेस चिकन की कीमत 210-220 रुपये प्रति किलो है।

स्किनलेस चिकन का रेट

पाकिस्तान में स्किनलेस चिकन की कीमत 780 PKR (पाकिस्तानी रुपया) है। ये कीमत भारत में 231.7 रुपये बनती है। भारत में स्किनलेस चिकन की कीमत करीब 200 रुपये प्रति किलो है। पाकिस्तानी पोल्ट्री एसोसिएशन के अनुसार चिकन सेक्टर से देश में करीब 15 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिलता है।

Durga Partap

दुर्गा प्रताप पिछले 1 सालों से बतौर Editor में के रूप में thebegusarai.in से जुड़े। इन्हें बिजनेस, ऑटोमोबाइल्स और खेल जगत से जुड़ी खबरे को गहराई से लिखने में काफी दिलचस्पी है। पिछले 5 साल से वह कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लगातार योगदान देते रहे हैं। दुर्गा ने MDSU से BCA की पढ़ाई पूरी की है।