Jio-Airtel की बोलती बंद करने आ रही BSNL की 5G नेटवर्क, जानें – लॉन्चिंग डेट..

best bsnl telecom tower

डेस्क : भारत में सभी निजी टेलीकॉम कंपनियां 5जी सेवाएं लाने की पूरी तैयारी दिखा रही हैं। वहीं इन सबके बीच धीरे-धीरे सरकारी कंपनी BSNL भी कछुए की चाल से आगे बढ़ रही है. फिलहाल बीएसएनएल ने अभी तक 4जी सेवा शुरू नहीं की है। लेकिन, कंपनी ने बीएसएनएल 5जी की तैयारी शुरू कर दी है। दरअसल, कंपनी ने सरकार से 5जी स्पेक्ट्रम के 70 मेगाहर्ट्ज एयरवेव्स को उलटने की मांग की है, जिससे साफ पता चलता है कि बीएसएनएल ने आने वाले समय में निजी कंपनियों को पूरी तरह से चुनौती देने का मन बना लिया है।

bsnl-recharge-plan-three

BSNL 5जी लॉन्च होने वाला है? मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में बीएसएनएल के सीएमडी पीके पुरवार ने सरकार को पत्र लिखा है. इस पत्र में बीएसएनएल ने बीएसएनएल 5जी के लिए 3300 मेगाहर्ट्ज से 3670 मेगाहर्ट्ज बैंड में 70 मेगाहर्ट्ज की एयरवेव मांगी है। हालांकि सरकार की ओर से फिलहाल इस पत्र का कोई जवाब नहीं दिया गया है. यह भी पढ़ें: बीएसएनएल के 30 दिन के सस्ते रिचार्ज ने उड़ाए जियो के होश, शुरुआती कीमत 16 रुपये

15 अगस्त को हो सकता है बड़ा ऐलान : काफी समय से जानकारी सामने आ रही है कि बीएसएनएल 4जी पर काम कर रही है। लेकिन, कुछ महीने पहले मीडिया रिपोर्ट्स ने सुझाव दिया था कि 5G नेटवर्क को नॉन-स्टैंडअलोन (NSA) मोड में 15 अगस्त को लॉन्च किया जा सकता है। इसके साथ यूजर्स को बिना एंड-टू-एंड 5G नेटवर्क के 5G सर्विस दी जाएगी। हालांकि इस बारे में अभी तक कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है। यह भी पढ़ें: बीएसएनएल ने लॉन्च किया 87 रुपये का सस्ता मोबाइल रिचार्ज प्लान, रोजाना 1 जीबी डेटा के साथ मिलेगी ये सभी सुविधाएं

ये भी पढ़ें   5G के साथ Jio मचाएगा धमाल - अब 4G SIM में ही चलेगा 5G का नेटवर्क, जानें - सबकुछ..
5g India in Next 5 years

बीएसएनएल 4जी भी लॉन्च से दूर नहीं : बीएसएनएल और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) संयुक्त रूप से 4जी सेवाएं देंगे। यह पहली बार होगा जब भारतीय तकनीक का इस्तेमाल 4जी सेवाओं के लिए किया जाएगा। इस बात की जानकारी खुद बीएसएनएल के निदेशक सुशील कुमार मिश्रा ने दी है। आपको बता दें कि हाल ही में केंद्र सरकार ने टेलीकॉम सेक्टर में 100 फीसदी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) को मंजूरी दी थी। इसके साथ ही सरकार ने स्पेक्ट्रम शुल्क और एजीआर बकाया पर दूरसंचार कंपनियों को 4 साल की मोहलत देने का भी फैसला किया था।