Friday, July 19, 2024
Sarkari Yojana

खेत में निजी नलकूप लगाने पर 80% सब्सिडी दे रही है सरकार, जल्दी ऐसे करें आवेदन…..

Private Tubewell Scheme : बिहार के किसानों के लिए अच्छी खबर है। अब राज्य के छोटे किसानों के लिए एक योजना लाई गई है। इसके तहत किसी को भी सिंचाई के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। दरअसल, मुख्यमंत्री निजी ट्यूबवेल योजना (CM Private Tubewell Scheme) के तहत सरकार किसानों को बंपर सब्सिडी देगी। यह सब्सिडी निजी नलकूप लगाने पर दी जाएगी। किसानों को 80 फीसदी मिलेगा। यह योजना उन क्षेत्रों के लिए है, जो असिंचित है। तो आइए इस योजना के बारे जानते हैं।

मुख्यमंत्री निजी ट्यूबवेल योजना के तहत सामान्य वर्ग के किसानों को 50 प्रतिशत, पिछड़े और अति पिछड़े किसानों को 70 प्रतिशत और अनुसूचित जाति-जनजाति के किसानों को 80 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। इतना ही नहीं, यह अनुदान कम से कम 70 मीटर तक 4-6 इंच व्यास वाले ट्यूबवेलों के लिए ही लागू होगा। हाल ही में कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। संयुक्त तकनीकी सर्वेक्षण में निजी ट्यूबवेल लगाने के लिए चिह्नित उन क्षेत्रों के किसानों को सहायता दी जायेगी, जहां सिंचाई की कोई व्यवस्था नहीं है।

किसानों के लिए तय मानक

किसानों के चयन के लिए मानक भी तय कर दिया गया है। इसके तहत असिंचित क्षेत्र के ऐसे लघु एवं सीमांत किसान, जिनके पास 0.40 एकड़ कृषि भूमि है, इसके लिये पात्र होंगे। अनुदान के लिए किसानों को भू-धारण प्रमाणपत्र-एलपीसी देना होगा। इसके अलावा उन्हें यह भी बताना होगा कि उनके प्लॉट पर पहले से कोई बोरिंग नहीं है।

ऐसे करें आवेदन

किसानों को लघु जल संसाधन विभाग के पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। किसान अपनी पसंद के अनुसार बोर साइट का चयन और निर्माण सामग्री खरीद सकेंगे। बोरिंग के पहले व बाद में स्थल की अक्षांश व देशांतर सहित फोटोग्राफी करानी होगी। इसे वेब पोर्टल पर अपलोड करना होगा। स्वीकृति के 60 दिन के अंदर बोरिंग करानी होगी, जानकारी अपलोड करनी होगी।

Nitesh Kumar Jha

नितेश कुमार झा पिछले 2.5 साल से thebegusarai.in से बतौर Editor के रूप में जुड़े हैं। इन्हें भारतीय राजनीति समेत एंटरटेनमेंट और बिजनेस से जुड़ी खबरों को लिखने में काफी दिलचस्पी है। इससे पहले वह असम से प्रकाशित अखबार दैनिक पूर्वोदय समेत कई मीडिया संस्थानों में काम किया। उनके लेख प्रभात खबर, दैनिक पूर्वोदय, पूर्वांचल प्रहरी और जनसत्ता जैसे अखबारों में भी प्रकाशित हो चुके हैं। अभी नीतेश दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से MA मास मीडिया कर रहे हैं।