Railway Rules : अगर ट्रेन में आपका सामान हो गया चोरी? जानें – कैसे मिलता है मुआवजा?

Railway : भारतीय रेलवे (Indian Railway) को देश की जीवन रेखा कहा जाता है और इसमें हर रोज 2 करोड़ से भी ज्यादा लोग अपना सफर पूरा करते हैं। भारतीय रेलवे (Railway) दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। आप लोगों ने भी कई बार ट्रेन में सफर किया होगा। लेकिन कई बार देखने को मिलता है कि ट्रेन में लोगों का सामान चोरी हो जाता है या फिर खो जाता है। ऐसे में यात्री बहुत ज्यादा घबरा जाते हैं और अपने सामान को लेकर चिंतित होते हैं।

ट्रेन में हर रोज यात्रा करने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। इसके साथ ही अब देश में कई सारी सुपरफास्ट ट्रेन मौजूद हैं और उनमें सभी सुविधाएं भी यात्रियों को दी जाती है। अब देश के बड़े शहरों में मौजूद वंदे भारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express) और तेजस (Tejas) जैसी ट्रेनों का संचालन होता है जिसमें सफर काफी आरामदायक और सहूलियत भरा होता है। इनका किराया भी ज्यादा नहीं होता है। कम किराये में यात्री लंबा सफर कर सकते हैं।

लोगों को कई बार ट्रेन (Train) में यात्रा करते समय कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इन परेशानियों में एक सीट न मिलना हो सकता है और दूसरी सबसे बड़ी समस्या सामान चोरी होने की है। या फिर कई लोगों का सामान जल्दबाजी में ट्रेन में ही छूट जाता है। कई बार यात्री का सामान रेलवे (Railway) स्टेशन पर या फिर ट्रेन में जल्दबाजी में सफर करते हुए छूट जाता है। लोग अपना सामान खो जाने या भूल जाने का डर से काफी परेशान हो जाते है।

लेकिन अगर आपका सामान ट्रेन या रेलवे स्टेशन पर छूट गया है या फिर चोरी हो गया है तो आप इसकी शिकायत कर मुआवजा ले सकते हैं। इसके लिए आपको रेलवे पुलिस (RPF) के पास जाकर FIR दर्ज करनी होगी और इसकी लिखित शिकायत देनी होगी।

इस फॉर्म में लिखा होता है कि अगर 6 महीने तक सामान नहीं मिलता है तो कंज्यूमर फोरम में आवेदन कर सकते हैं, जिसके बाद फोरम रेलवे (Railway) को हर्जाना भरने का आदेश जारी कर सकता है। अगर आपका सामान ट्रेन में छूट जाता है तो आप इसकी शिकायत रेलवे पुलिस को कर सकते हैं। इसके कुछ दिन बाद आप ‘ऑपरेशन अमानत’ की वेबसाइट पर जाकर भी सामान चोरी होने या खो जाने की शिकायत का स्टेटस चेक कर सकते है।