लोकसभा चुनाव से पहले भारत में लागू होगा CAA, ये है सरकार की तैयारी…

डेस्क : 2019 के बाद से देश में CAA का मुद्दा गर्म रहा। इसे लेकर देश के कई हिस्सों में तनाव की स्थिति बनी रही। अब 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले इसकी चर्चा तेज हो गई है। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) किसी भी वक्त लागू हो सकता है। आवेदन करने और नागरिकता देने की प्रक्रिया ऑनलाइन होगी और इसके लिए एक पोर्टल तैयार हो चुका है। आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

सीएए के तहत 31 दिसंबर 2014 से पहले अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश से आए छह अल्पसंख्यकों (हिंदू, ईसाई, सिख, जैन, बौद्ध और पारसी) को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है। इन तीन देशों से आने वाले विस्थापितों को दस्तावेज़। इन देशों से आने वाले प्रवासियों को केवल पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा और गृह मंत्रालय इसे सत्यापित कर नागरिकता जारी करेगा। दरअसल, नागरिकता देने का अधिकार पूरी तरह से केंद्र सरकार के पास है।

मालूम हो कि 2019 में शीतकालीन सत्र में सांसद में CAA कानून को पारित किया गया था। इसके बाद से ही देश के कई हिस्सों में इसका विरोध किया जाने लगा। वहीं दिल्ली के शाहीन बाग में महीनों तक प्रदर्शनकारी विरोध में बैठे रहे। विरोध को देखते हुए सरकार ने इसे लागू करने में सावधानी बरतने का फैसला किया और करीब चार साल के इंतजार के बाद इस पर आगे बढ़ रही है।