कभी ना करें ऐसी 5 गलतियां, नहीं तो माँ लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज- यहाँ जानें

Ma Lakshmi

न्यूज डेस्क: हम अपने घरों में माँ लक्ष्मी की उपस्थिति को सफलता, धन और समृद्धि का श्रेय देते हैं। वह उस धन का प्रतिनिधित्व करती है जिसे हर व्यक्ति अपने भौतिकवादी जीवन में प्राप्त करना चाहता है। वह ऐश्वर्य की प्रतिमूर्ति हैं, और उनका अस्तित्व हमें गौरवशाली ऊंचाइयों को प्राप्त करने में मदद करती है।

हालांकि, उसे बरकरार रखना आसान नहीं है। कहते है की वह कहीं भी टिक कर नहीं रहती है। इतना ही नहीं शास्त्र में कुछ ऐसी बातें बताई गई हैं, जिनको करने से मां लक्ष्मी हमेशा के लिए घर छोड़कर चली जाती हैं। ऐसे में ये जानना बेहद आवश्यक है की ऐसे कोन से ऐसे कार्य है जिन्हें आपको नहीं करनी चाहिए।

ना रखें जूठे बर्तन: ऐसा माना जाता है की झूठे बर्तन रखने से माँ की कृपा नहीं बनती। झूठे बर्तन रखना ठीक नहीं होता है। कभी भी घर में जूठे बर्तनों को नहीं रखना चाहिए। इससे लक्ष्मी मां की कृपा बंद हो जाती है। वही रात में हमेशा ही रसोई को साफ करके ही जाए।

घर में कभी न रखे बेकार सामान: आपको कभी भी घर में कूड़ा या बेकार का सामान नहीं रखना चाहिए, खास तौर पर उत्तर दिशा में तो कभी भी नहीं। घर में कभी भी उत्तर दिशा में गंदगी को भी जमा नहीं करना चाहिए।

चूल्हे पर ना रखें बर्तन: रसोई घर में चूल्हे पर कभी भी खाली बर्तन को नहीं रखना चाहिए, ये अशुभ माना जाता है। रसोईघर के चूल्हे को साफ-सुथरा रखना चाहिए, इससे साफ सफाई करवानी चाहिए। पुराणों में बताया गया है कि चूल्हे पर खाली बर्तन रखकर छोड़ने से घर में दरिद्रता का वास होता है, अगर घर में खाली बर्तन चूल्हे पर रखते हैं तो इससे नुकसान होता है।

समय से लगाएं झाड़ू: जहां तक संभव है आप सूर्य के पहले ही घर में झाड़ू पोछा कर लें अगर बाद घर में झाड़ू-पोंछा लगाते हैं तो यह दुर्भाग्य माना जाता है। मां लक्ष्मी प्रात: काल में घरों में आती हैं, वो साफ सफाई से खुश होकर वहां वास करती हैं। अगर किसी कारणवश झाड़ू लगानी पड़ जाए तो घर की गंदगी को घर में ही रखें, उसको सुबह साफ-सफाई के साथ फेंक दें।

हाथ से ना घिसें चंदन: कभी भी एक हाथ से चंदन नहीं घिसना चाहिए, ऐसा करने से देवी लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और धन की कमी का सामना करना पड़ सकता है। जहां तक को आप हमेशा की भगवान की पूजा करते समय चंदन को पहले किसी थाली में रखकर ही लगाएं।

You may have missed

You cannot copy content of this page