रामेश्वरम में बन रहा है देश का सबसे लंबा “रेलवे सी ब्रिज”, मार्च 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा यह पुल , जानें-

Rameshwaram Bridge

न्यूज डेस्क: भारत का पहला वर्टिकल लिफ्ट रेलवे ब्रिज तमिलनाडु के मंडपम में बनने जा रहा है। इसका निर्माण 9 नवंबर 2019 को शुरु हुआ था, और संभावना है कि यह परियोजना अगले साल मार्च माह तक पूरी हो जाएगी। भारतीय रेलवे ने मंडपम में 2.05 किमी के नए पंबन रेलवे पुल पर निर्माण कार्य शुरू कर दिया है। जो रामेश्वरम को तमिलनाडु में मुख्य भूमि से जोड़ेगा। नए पुल रेलवे को तेज गति से ट्रेनों के संचालन, अधिक भार वहन करने और पंबन और रामेश्वरम के बीच यातायात की मात्रा बढ़ाने में मदद करेगा।

पुल निर्माण कार्य प्रगति पर

नया ब्रिज दो किलोमीटर से अधिक लम्बा है, जिसकी लागत ₹ 250 करोड़ होने की संभावना है। इससे पहले रेल मंत्रालय ने भी एक ट्विटर पोस्ट के जरिए नए पंबन पुल की कुछ तस्वीरें साझा की थीं। इसे इंजीनियरिंग का चमत्कार बताते हुए मंत्रालय ने कहा, “यह डुअल-ट्रैक स्टेट-ऑफ-द-आर्ट ब्रिज देश का पहला वर्टिकल लिफ्ट रेलवे सी ब्रिज होगा और इसके मार्च 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है।”

105 साल से भी अधिक पुराना है यह पंबन ब्रिज:

मौजूदा पंबन रेल ब्रिज, जो रामेश्वरम को भारत की मुख्य भूमि से जोड़ता है, 105 साल पुराना है। मूल पुल 1914 में मंडपम को मन्नार की खाड़ी में स्थित रामेश्वरम द्वीप से जोड़ने के लिए बनाया गया था। 1988 में समुद्र लिंक के समानांतर एक नया सड़क पुल बनने तक यह दो स्थानों को जोड़ने वाला एकमात्र लिंक था।हालांकि,पर 105 साल पुराना यह पुल उपयुक्त नहीं है जिस चलते रेल मंत्री ने एक नया पुल बनाने का फैसला किया है।

You cannot copy content of this page