Friday, July 19, 2024
Knowledge

किसी गांव या शहर के नाम के साथ ‘पुर’ क्यों लिखा होता है? जान लीजिए इसका मतलब….

इंडिया एक बड़ा देश है। आबादी और क्षेत्रफल दोनों ही मामले में भारत की गिनती बड़े देशों में होती है। भारत में कई छोटे बड़े शहर हैं। इनमें से बहुत सारे शहरों के नाम के अंत में पुर लगा होता है। भारत में कई ऐसे शहर और गांव है जिसके नाम के अंत में पुर लगा है।

जैसे रामपुर कानपुर,फतेहपुर, रायपुर, उदयपुर, गोरखपुर और जोधपुर आदि। बहुत सारे ऐसे शहरों के बारे में आप जानते होंगे जिसके नाम के पीछे पुर लगा हो। आखिर भारत के इतने सारे गांव और शहरों के नाम के पीछे पुर क्यों लगा रहता है? पुर का मतलब क्या होता है? आज हम आपको इस सभी बातों की जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से देंगे।

क्या होता है पुर का मतलब?

पुर शब्द का मतलब होता है शहर या किला। यही वजह है कि किसी भी जगह के नाम के पीछे पुर लगा दिया जाता है। किसी खास नाम के पीछे पुर लगाकर शहर का नाम रख दिया जाता है। आज से ही नहीं बल्कि बहुत समय पहले से किसी खास नाम के पीछे पुर लगाकर किसी गांव या शहर का नाम रखा जाता था। उदाहरण के लिए हस्तिनापुर। इस उदाहरण में हम जयपुर का भी नाम ले सकते हैं। जयपुर का नाम राजा जयसिंह के नाम पर रखा गया है। राजा जयसिंह ने उस शहर को बसाया था।

Richa Jha

रिचा झा ने इंदिरा स्कूल ऑफ कम्युनिकेशन से वर्ष 2021 में BAJM की डिग्री प्राप्त की है। एक साल वाइब्रेटिक मीडिया प्राइवेट लिमिटेड में हिंदी कंटेंट राइटर के तौर पर काम किया है। कुछ समय पहले DNP न्यूज में भी बतौर हिंदी कंटेंट राइटर काम किया। इन्हें हिंदी कंटेंट राइटिंग के क्षेत्र में एक साल से अधिक का अनुभव है। अगस्त 2023 से ऋचा thebegusarai.in से जुड़ी। इन्हे लाइफस्टाइल, एंटरटेनमेंट पॉलिटिक्स और खेल से जुड़ी खबरों को लिखने में रुझान है।