December 1, 2022

New PPF Rules : Account के बदल गए ये 5 नियम, पैसा लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान…

ppf news

डेस्क : सरकार ने छोटी बचत जमा करने के तरीके में कुछ बदलाव किए हैं। इस बदलाव के चलते पीपीएफ के नियमों में प्रक्रियात्मक बदलाव किए गए हैं। अगर आपका भी पीपीएफ अकाउंट है तो आपके लिए भी इन नियमों को जानना जरूरी है। ये नियम बहुत उपयोगी हैं। इसमें ब्याज दरों से लेकर अन्य मामलों तक के मामले शामिल हैं।

New PPF Rules : Account के बदल गए ये 5 नियम, पैसा लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान… 1

PPF योगदान : हालांकि, PPF खाते में किए जा सकने वाले न्यूनतम और अधिकतम योगदान को बिना किसी बदलाव के नहीं बदला गया है। लेकिन पीपीएफ खाता खोलने के लिए न्यूनतम राशि और एक वित्तीय वर्ष में किए जाने वाले योगदान की संख्या में बदलाव किया गया है। अंशदान राशि 50 रुपये के गुणकों में होनी चाहिए और 500 रुपये या उससे अधिक के बराबर होनी चाहिए। लेकिन यह एक वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपये से अधिक नहीं होना चाहिए। इसके अलावा अब पीपीएफ खाते में महीने में एक से अधिक बार पैसा जमा किया जा सकता है।

नए फॉर्म का इस्तेमाल किया जाएगा : PPF खाता खोलने के लिए अब आपको फॉर्म ए की जगह फॉर्म 1 जमा करना होगा। इसका इस्तेमाल पहले किया जाता था। 15 साल के बाद पीपीएफ खाते (जमा के साथ) के विस्तार के लिए फॉर्म एच के बजाय फॉर्म -4 में मैच्योरिटी से एक साल पहले आवेदन जमा करना होता है, जो पहले इस्तेमाल किया जाता था।

New PPF Rules : Account के बदल गए ये 5 नियम, पैसा लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान… 2
New PPF Rules : Account के बदल गए ये 5 नियम, पैसा लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान… 5

PPF को बिना पैसा जमा किए भी बढ़ाया जा सकता है : अगर आप 15 साल की मैच्योरिटी अवधि के बाद बिना पैसा जमा किए अपने पीपीएफ खाते का विस्तार करने का विकल्प चुन रहे हैं, तो यह संभव है। हालांकि, ऐसे में आप हर वित्तीय वर्ष में केवल एक बार ही निकासी कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें   25 साल तक Free बिजली, खूब चलाएं टीवी, फ्रीज, पंखे…जल्दी से उठाएं फायदा!
New PPF Rules : Account के बदल गए ये 5 नियम, पैसा लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान… 3
New PPF Rules : Account के बदल गए ये 5 नियम, पैसा लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान… 6

PPF से लिए गए कर्ज पर बदली ब्याज दर : PPF में जमा पैसे के बदले लिए गए कर्ज पर ब्याज दर 2 फीसदी से घटाकर 1 फीसदी कर दी गई है. एक बार जब आप ऋण की मूल राशि चुका देते हैं, तो आपको दो से अधिक किश्तों में ऋण पर ब्याज का भुगतान करना होगा। ब्याज की गणना उस महीने के पहले दिन से की जाएगी जिसमें आप ऋण लेते हैं उस महीने के अंतिम दिन तक जिसमें ऋण मूलधन की अंतिम किस्त चुकाई जाती है। जिस साल लोन लिया जा रहा है उसके दो साल पहले आप खाते में उपलब्ध पीपीएफ बैलेंस का 25 फीसदी तक लोन ले सकते हैं.