December 10, 2022

FD में निवेश करने पर खूब ज्यादा मिलेगा रिटर्न, जान लें ये खास तरीका..

Best Investment for people

डेस्क : अगर आप FD से मिलने वाली रकम को ओर भी बढ़ाना चाहते हैं तो मैच्योरिटी पर मिलने वाले पैसे को दोबारा कहीं निवेश करते रहें। इससे आपके खाते में इतना पैसा आसानी से जमा हो जाएगा कि आप कोई भी बड़ा काम, जैसे घर या कार खरीदना, बिल्कुल आसानी से कर सकते हैं।

FD में निवेश करने पर खूब ज्यादा मिलेगा रिटर्न, जान लें ये खास तरीका.. 1

भारत में निवेश करने वाले लगभग 95% लोग फिक्स्ड डिपॉजिट FD को अपना सबसे अच्छा विकल्प मानते हैं। FD पर मिलने वाला ब्याज पहले से ही तय होता है, इसलिए निवेश की योजना बनाना काफी आसान हो जाता है। जब आप भविष्य के बारे में सोचकर पैसा जमा करते हैं तो इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि आप इससे रिटर्न कैसे बढ़ा सकते हैं। यही हाल एफडी का भी है। FD आपको फिक्स्ड रिटर्न देती है, लेकिन आप चाहें तो उस रिटर्न को बढ़ा भी सकते हैं. इसके लिए कुछ आसान तरीके अपनाने होंगे।

FD में निवेश करने पर खूब ज्यादा मिलेगा रिटर्न, जान लें ये खास तरीका.. 2

इन 5 तरीके से FD पर कमाई बढ़ाई जा सकती है।

1-अधिक ब्याज देने वाले बैंक से लें FD : FD कराने की जल्दबाजी न करें. कुछ शोध करें कि कहां और किस बैंक में ज्यादा ब्याज मिल रहा है। बैंक विश्वसनीय होना चाहिए और अन्य बैंकों या वित्तीय संस्थानों की तुलना में अधिक ब्याज का भुगतान करना चाहिए। FD पर बचत तभी बढ़ेगी या रिटर्न ज्यादा माना जाएगा जब ब्याज दर महंगाई दर से ज्यादा हो. इस हिसाब से 7% या उससे ज्यादा ब्याज वाली FD स्कीमों में ही पैसा लगाएं। रिटर्न के साथ FD का पैसा भी सुरक्षित होना चाहिए।

ये भी पढ़ें   UPI यूजर्स ध्यान दें! अब G-Pay, Phone-Pe, Paytm से दिन में होगा सिर्फ इतना ट्रांजैक्शन, जानें - नया नियम..

2-कंपनी की FD में निवेश करें : FD भी कई तरह की होती है. कुछ FD बैंकों के माध्यम से बेचे जाते हैं और कुछ वित्तीय संस्थानों द्वारा बेचे जाते हैं। इसमें एक कंपनी FD है जिसे वित्तीय संस्थानों द्वारा बेचा जाता है। यह कम अवधि में उच्च ब्याज रिटर्न देता है। कंपनी FD में ज्यादा कमाई के साथ-साथ और भी कई फायदे मिलते हैं. अपनी जरूरतों को देखते हुए कंपनी FD में पैसा लगाएं। आप चाहें तो कई FD ले सकते हैं, जिनकी अवधि अलग-अलग होती है। इसके बाद एक निश्चित अवधि के लिए निश्चित आय मिलती रहेगी। खर्च की कोई चिंता नहीं रहेगी।

3- कई सावधि जमाओं में निवेश करें : आप एक साथ कई FD में पैसा लगा सकते हैं। ध्यान रहे कि अलग-अलग रेट की FD खरीदनी चाहिए. अगर आपने कुछ जोखिम भरे निवेश जैसे फंड या स्टॉक में अलग से पैसा लगाया है, तो FD से होने वाली कमाई उस जोखिम को कवर कर सकती है। FD पर कई तरह के टैक्स बेनिफिट्स मिलते हैं। इससे बचत के साथ-साथ कमाई का जरिया बनता है। हमेशा ध्यान रखें कि अलग-अलग मैच्योरिटी अवधि के लिए FD लेनी पड़ती है। इससे आपके हाथ में पैसा हमेशा बना रहेगा। अगर एक FD का पैसा खत्म हो जाता है तो दूसरी काम करेगी।

4- हमेशा संचयी FD ही लें : सावधि जमा भी दो प्रकार के होते हैं – संचयी और गैर-संचयी। इसे अंग्रेजी में संचयी और गैर-संचयी FD कहते हैं। गैर-संचयी FD में, आपको समय-समय पर रिटर्न मिलता है जबकि संचयी या संचयी FD में, आपको अवधि के अंत में पैसा मिलता है। इसमें ब्याज चक्रवृद्धि में बदल जाता है। इससे आपका निवेश साल दर साल बढ़ता जाता है। आप जितनी राशि जमा करते हैं, अंत में आपको उससे कई गुना अधिक रिटर्न मिलता है।

ये भी पढ़ें   नए साल में बढ़ेगी कर्मचारियों की सैलरी, इन तीन बातों पर होगा फैसला..

5- ब्याज का पैसा दोबारा जमा करें : अगर आप FD से मिलने वाली रकम को बढ़ाना चाहते हैं तो मैच्योरिटी पर मिलने वाले पैसे को दोबारा निवेश करते रहें. इससे आपके खाते में इतना पैसा आसानी से जमा हो जाएगा कि आप कोई भी बड़ा काम, जैसे घर या कार खरीदना, आसानी से कर सकते हैं। अगर आप बार-बार FD में ब्याज का पैसा लगाते रहेंगे तो इतनी बड़ी रकम जुटाने में कोई दिक्कत नहीं होगी. इसके लिए अपने बैंक या वित्तीय संस्थान की नवीनीकरण नीति को ध्यान से जान लें ताकि ब्याज के पैसे को दोबारा निवेश करने में कोई परेशानी न हो।