काला दूल्हा देख वरमाला पर से भागी दुल्हन, शादी से किया इंकार, बोली- हाय राम ये काला है! दरवाजे से लौटा दी बारात..

डेस्क: हमारे भारतीय समाज में शादी को एक संस्कार के रूप में माना जाता है, क्योंकि हिंदू धर्म में शादी एक बार किसी वर-वधू के साथ हो जाए तो वह युगो-युगो तक रहता है, लेकिन, वर्तमान समय में शादी भी मॉडर्न बनता जा रहा है, कुछ समय पहले लड़का लड़की शादी के चलते अपने माता पिता के खिलाफ नहीं होते थे, चाहे कैसी भी परिस्थिति क्यों ना आ जाए, जिसके साथ शादी हो गई, लड़की को उसी के साथ रहना पड़ता था,

लेकिन आधुनिक युग में शादी गुण नहीं बल्कि रूप देखकर हो रही है, यह बात सुनने में थोड़ा अजीब सा लग रहा होगा, लेकिन हकीकत यही है, क्योंकि इसी प्रकार का ताजा मामला बिहार के पूर्वी चंपारण जिले से आया है, जहां युवती ने भरी बरातियों के बीच में जयमाला के स्टेज से लडके के गले में जयमाला डालने से इसलिए इंकार कर दिया, क्योंकि वह गोरा नहीं बल्की काला था। इस घटना के बाद तो वहां सन्नाटा पसर गया और बरात में आए लोग बिना खाए ही वापस हो गए। जबकि लड़की के परिजनों से पूरी रात समझाया, लेकिन वह अपने निर्णय पर अडिग रही।

चाहे कुछ भी हो जाए हम इस लड़का से शादी नहीं करेंगे: बता दें कि यह मामला पूर्वी चंपारण जिले के हरसिद्धि थाना क्षेत्र के गायघाट गांव में रविवार की थी। सबकुछ तय कार्यक्रम के अनुसार ही चल रहा था। बरात समय से आई और दरवाजे भी लगी। वधु पक्ष के लोगों ने उसका स्वागत किया। इसके बाद जयमाला की रस्म शुरू की गई। दुल्हन को स्टेज पर लाया गया। इस समय तक सबकुछ सही चल रहा था। जब दुल्हन को दूल्हे के गले में वरमाला डालने के लिए कहा गया तो उसने ऐसा करने से इंकार कर दिया।

इसके बाद तो वहां सन्नाटा पसर गया। कुछ लोगों को तो बात समझ में भी ही नहीं आई। इस बीच दुल्हन के स्वजनों ने स्थिति को संभालने के लिए उसे समझाने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं मानी। जब वजह पूछा गया तो उसने कहा कि वह काले रंग के दूल्हे से शादी नहीं करेगी। फिर क्या था, बराती में आए लोग वहां से पांव-पांव ही खिसकने लगे।

बिना खाना खाए बराती को लौटना पड़ा: इस घटना के बाद मंडप खाली हो गया। दूल्हन को भी स्टेज से घर ले जाया गया। वहां भी सबलोगों ने इज्जत की दुहाई देते हुए उसे अपने फैसले पर फिर से विचार करने को कहा, लेकिन वह अडिग रही। इस तरह से यह शादी नहीं हो सकी। देखते ही देखते ही यह खबर पूरे गांव में फैल गई। जितनी मुंह उतनी बातें। कोई युवती के प्रेम संबंध की बात कह रहा तो कोई उसके मां-बाप की गलती बता रहा। कोई पश्चिमी सभ्यता का असर। बहरहाल, गोरे रंग और उस पर गुमान की बात चल निकली और दूर तलक भी जा रही है।

You cannot copy content of this page