पटना : अस्पतालों में डेंगू के मरीजों की संख्या 50 के पार और बिगर सकते है हालात

Dengue

डेस्क : पटना में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों समेत विभिन्न सरकारी अस्पतालों में भर्ती होने वाले डेंगू के मरीजों की संख्या बुधवार को 50 के पार पहुंच गई. डॉक्टरों के मुताबिक संख्या बढ़ने की संभावना है क्योंकि निजी अस्पतालों ने अभी तक डेंगू से संबंधित डेटा नहीं भेजा है । फिलहाल सभी निजी अस्पतालों को एक संदेश भेजा गया है जिसमें उन्हें डॉक्टर को अपडेट रखने के लिए कहा गया है । सूत्रों के मुताबिक, बुधवार को नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (NMCH) में डेंगू से पीड़ित दो बच्चों सहित कुल चार मरीजों को भर्ती कराया गया। डेंगू के लक्षणों वाले बहुत से लोगों ने डॉक्टरों से परामर्श किया है । कल चार मरीजों को भर्ती कराया गया, जबकि अन्य को उचित इलाज के लिए दवाएं दी गईं।

सितंबर व अक्टूबर माह में सर्वाधिक डेंगू रोगी मिले एक तरफ पटना में वायरल बुखार के नए मामलों में कमी आते ही अब डेंगू संक्रमण की संख्या तेजी से बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। बताते चलें कि प्रदेश में गत दस वर्षों में सितंबर व अक्टूबर माह में सर्वाधिक डेंगू रोगी मिले हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार अबतक जिले में डेंगू के 50 से अधिक मामले सामने आए हैं। ये वे मामलें हैं जो एम्स, आरएमआरआइ, पीएमसीएच की माइक्रोबायोलाजी विभाग में एलाइजा विधि से जांच में पाजिटिव मिले हैं ।

शहर के इन क्षेत्रों में सबसे ज्यादा लोग है डेंगू से प्रभावित आपको बात दे की अक्सर डेंगू प्रभावित क्षेत्रों में फागिग और एंटी लार्वासाइड्स छिड़काव नहीं किया जाता। वहीं निजी लैबों में इतनी बड़ी संख्या में बुखार पीड़ित जांच कराने पहुंच रहे हैं कि प्रतिष्ठित पैथोलाजी ने इसके लिए विशेष पैकेज तक बना दिए हैं। हर दिन औसतन दो सौ लोग डेंगू, मलेरिया, टायफाइड, चिकनगुनिया, कोरोना, सीबीसी, ईएसआर, सीआरपी व यूरीन रूटीन व कल्चर कराने आते हैं। इनमें से 50 से 60 लोगों में डेंगू पाजिटिव मिल रहा है। पटनासिटी, गायघाट, कंकड़बाग, खाजेकला, ट्रांसपोर्ट, राजीव नगर, मंदिरी, दीघा, फुलवारीशरीफ, पाटलिपुत्र आदि मोहल्लों के लोग ज्यादा है।

You cannot copy content of this page