Bihar में स्वास्थ विभाग अजीब कारनामा! ननद की जगह भाभी का कर दिया ऑपरेशन, फिर आगे जो हुआ..

Bihar Doctor

डेस्क : बिहार अपने उटपटांग कारनामे के लिए भी मशहूर है। इस बार तो राज्य का स्वास्थ्य विभाग ने एक अजब ही कारनामा कर दिया है। दरअसल, छपरा से दरियापुर पीएचसी से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां डॉक्टरों ने मरीज की जगह उसके साथ आई भाभी का की ऑपरेशन कर दिया। यानी की करना था ननद का ऑपरेशन और भाभी का ऑपरेशन कर दिया। इसके बाद परिजनों ने मौके पर पहुंच मुआवजा की मांग कर रहे हैं। इस इस मामले से इलाके में रोष का माहौल है।

दरअसल, ठीकहा गांव रहने वाली बबीता देवी अपनी ननद का बंध्याकरण (नसबंदी) करवाने के लिए दरियापुर पीएचसी आई थी। लेकिन अजब डॉक्टरों ने गजब का खेल कर दिया। ननद की जगह भौजाई का ही नसबंदी कर दिया। मौके पर आए महिला का पति अपनी पत्नी को OT में देख गर्म हो गया। महिला के पति राजेश मांझी के द्वारा मौके पर जम के हो – हल्ला किया गया। इतना की नहीं मामले की शिकायत डीएम से करने के बाद अब सिविल सर्जन मामले की छानबीन करने के लिए लगा दिया गया है।

सिविल सर्जन डॉ. सागर दुलाल सिन्हा ने कहा कि आरंभिक जांच में यह सामने आया है कि उक्त महिला कि सहमति के बाद नसबंदी किया गया है। इसके बाद उन्होंने यह भी कहा कि महिला के परिवार वालों से भी अनुमति लेनी चाहिए थी। बताया कि शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है कि महिला की सहमति के बाद ऑपरेशन किया गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि इसके लिए महिला के परिजनों से सहमति लेनी चाहिए थी। वहीं सिविल सर्जन की ओर से आशा कार्यकर्ता और पीएचसी के स्वास्थ्यकर्मियों से स्पष्टीकरण मांगा गया है।

ये भी पढ़ें   नीतिश बाबू का इस्तीफा, क्या तेजस्वी होंगे डिप्टी सीएम?

सिविल सर्जन ने सूचित किया इस मामले की छानबीन के लिए एक जांच कमेटि का गठन कर दिया गया है। वहीं महिला के पति राजेश मांझी ने बिना सहमति के करने के जुर्म में स्वास्थ्य विभाग से 5 लाख रुपए के मुआवजा मांगा है। सिविल सर्जन ने स्पष्ट किया कि मामले की जांच हो रही है, जो भी दोषी साबित होगा उससे खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।