वायुसेना के बाहुबली चिनकू विमान ठीक होकर भरा उड़ान, लोगों के तालियां और भारत माता की जय के जयकारे से गुंजा पूरा बक्सर

Chinuk

डेस्क : बिहार के बक्‍सर में बीते 3 दिनों पहले वायुसेना का बेहद बलशाली चिनकू विमान को तकनीकी खामी के कारण आपातकालीन लेंडिंग कराया था,जो अब बिल्कुल समस्या मुक्त हो गया है। इस विमाम को निकालने के 3 ट्रैक्टरों की मदद ली गयी थीं, लेकिन विमान को नोकलने में तीनों ट्रैक्टर असमर्थ रहा। विमान ठीक होने के बाद खुद के बल पर कीचड़ से बाहर निकला। इंजीनियरों की एक पूरे समूह ने विमान को ठीक किया फिर पायलट द्वारा विमान को स्टार्ट किया गया। जिसके बाद इस सूखे जगह पर लाया गया। यह सब देखने पर सेकड़ों की तादाद में लोगों की हुजूम उमर पड़ी। विमाम के उड़ते ही लोगों के तालियां और भारत माता की जय के जयकारे से पूरा इलाके से देशभक्ति का भाव देखने को मिला।

बक्‍सर में बीते बुधवार को हुई थी इमरजेंसी लैंडिंग मालूम हो कि बक्सर,मानिकपुर हाईस्कूल के ग्राउंड में बीते बुधवार के शाम में कुछ तकनीकी समस्या होने के चलते इमरजेंसी में चिनूक विमान को लैंडिंग कराया गया।था। वायु सेना के इस विशालकाय मालवाहक विमान में उत्पादन हुई तकनीकी खराबी को ठीक करने हेतु शुक्रवार शाम के समय इंजीनियरों की टीम जुटे रहे। इससे पहले एयरफोर्स का ही दूसरा विमान उसी दिन बंगलुरु से आवश्यक सामानों और विशेषज्ञों की समूह को लेकर आया। उस समय से यह बताया जा रहा था कि यह शनिवार को उड़ने की अवस्था में हो जाएगा। करीब 14 टन के इस विमान का चक्का वहां के कीचड़ वाली मिट्टी में गर गया था। जिसे निकालने हेतु 3-3 ट्रैक्टरों की सहायता भी ली गई परंतु उसका कुछ भी असर नहीं दिखा। विमान हिला तक नहीं। वहां मौजूद सैनिकों और इंजीनियरों ने उसी उच्च विद्यालय में ठहरा हालांकि, खाने- पिने व्यवस्था ग्रामीणों ने ही किया। सैनिकों के लिए अलग-अलग स्वादिष्ट भोजन बनाए गए।

दूर-दूर से चिनकू को देखने के लिए आएं लोग चिनकू को एक बार देखने हेतु केवल बक्सर जिले से नहीं बल्कि यूपी तक से लोग पहुंचे। जिससे कारण गांव में मेले जैसा माहौल बन गया। यहाँ तक कि छोला, चाट, पकौड़ी तथा जलेबी की दुकान भी लगी थी। लग्जर कार हो या बाइक सब अपने आपने साधन से दूर दराज से लोग आएं थे। वहीं हेलीपैड निर्माण करने में भी ग्रामीण युवकों ने उत्साह के साथ भाग लिया। वायु सैनिकों के साथ फ़ोटो खिंचाने हेतू लोगों में होड़ मच गई थी

You may have missed

You cannot copy content of this page