बिहार के मुंगेर स्टेशन से रामेश्वरम के लिए आस्था स्पेशल सर्किट ट्रेन हुई रवाना, दक्षिण भारत के धार्मिक स्थलों का कराएगी दर्शन, यहां देखें पूरा शेड्यूल

Astha Special Train From Bihar Munger

डेस्क : रेलवे सरकार एक बार फिर अंग प्रदेश वासियों के लिए बेहतर ट्रेन का तोहफा दिया है। करीब लंबे अरसे के बाद मुंगेर स्टेशन से किसी दूसरे राज्य के लिए ट्रेन का परिचालन शुरू किया गया। आईआरसीटीसी (IRCTC) ने मुंगेर से दक्षिण भारत के कोचुवेली तक आस्था सर्किट स्पेशल ट्रेन चलाने का निर्णय लिया था। जो की बुधवार को पूरा हो गया। यह ट्रेन बुधवार की सुबह 7:00 बजे मुंगेर स्टेशन से रवाना हुई। और सादे समारोह के बीच मुंगेर स्टेशन से स्टेशन मास्टर ने ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर अगले स्टेशन के लिए रवाना किया। यह ट्रेन दक्षिण भारत के महत्वपूर्ण और प्राचीन धार्मिक स्थलों की यात्रा कराएगी। इसके लिए रेलवे बोर्ड से स्वीकृति भी मिल चुकी है। आस्था सर्किट स्पेशल ट्रेन मालदा पूर्व रेलवे के मालदा और आसनसोल रेलवे के माध्यम से चलाई जा रही है। आपको बता दें कि इस ट्रेन में कुल 15 डिब्बे के कोच है।

दक्षिण भारत के विभिन्न धार्मिक स्थलों का कराएगी दर्शन: रेलवे के माध्यम से आस्था सर्किट स्पेशल ट्रेन की समय सारणी भी जारी कर दी गई है। यह ट्रेन मुंगेर स्टेशन से रवाना होने के बाद रतनपुर होते हुए भागलपुर की ओर निकगी। इस क्रम में दक्षिण भारत के कई महत्वपूर्ण पौराणिक और धार्मिक स्थलों का यात्रा कराएगी। यह ट्रेन देश के विभिन्न राज होते हुए जैसे उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल के लगभग सभी तीर्थ स्थलों का भ्रमण कराएगी।

8 प्रदेशों का लगाएगी चक्कर: 00341 अप और 00342 डाउन नम्बर वाली यह ट्रेन मुंगेर रेलवे स्टेशन से बुधवार की सुबह 7:00 बजे कोचुवेली के लिए रवाना हुई। इस सिलसिले में विभिन्न प्रदेशों का चक्कर लगाकर अपनी यात्रा पूरा करेगी। मुंगेर से खुलने के बाद 7:45 बजे सुल्तानगंज और 8:25 बजे भागलपुर पहुंची। भागलपुर में ट्रेन में पानी की सुविधा आपूर्ति कराई गई। जहां से रवाना होने के बाद 10:50 में यह ट्रेन हंसडीहा, अपराहन 13:10 बजे दुमका, 14:50 बजे जसीडीह और 16:10 बजे जामताड़ा पहुंची। ट्रेन संध्या 17:10 ट्रेन आसनसोल पहुंची। बरहमपुर के रास्ते 18:40 तक आदरा पहुंची। जहां से प्रस्थान करने के बाद बांकुरा हिजली और बालासोर में रुकी। 1 अप्रैल यानी की आज प्रातः 4:30 बजे खुरदा रोड पहुंची। पूर्वाहन 10:00 बजे विजयनगरम पहुंच जाएगी। 10:45 पर सिम्हाचलम नॉर्थ क्रॉस करने के बाद विजयवाड़ा और गुडूर रुकने के बाद 2 अप्रैल को प्रातः 4:00 बजे रेणिगुंटा पहुंच जाएगी। रेणिगुंटा में यह ट्रेन काफी देर रुकेगी और रात्रि 23:00 बजे रेणिगुंटा से मरतीपलायम के रास्ते 4 अप्रैल को काटपारी, विल्लुपुरम, तिरुचिरापल्ली, मदुरई रुकने के बाद अपराहन 15:30 बजे रामेश्वरम पहुंच जाएगी। जहां लगभग 24 घंटे रुकने के बाद यह ट्रेन 5 अप्रैल को अपराहन 15:00 बजे रामेश्वरम से रवाना होगी और संध्या 18:00 बजे मदुरई पहुंच जाएगी।

10 अप्रैल की सुबह पहुंचेगी मुंगेर: मदुरई में भी यह ट्रेन काफी देर रुकेगी और 6 अप्रैल को प्रातः 5:00 बजे मदुरई से रवाना होकर नागरकोइल पहुंच जाएगी। 7 अप्रैल को त्रिवेंद्रम कैंट के रास्ते यह ट्रेन प्रातः 8:15 कोचुवेली पहुंचेगी. जहां से इस ट्रेन की वापसी यात्रा आरंभ होगी और लगभग इन्हीं रेलवे स्टेशनों पर रुकते हुए यह ट्रेन 10 अप्रैल को प्रातः 7:00 बजे मुंगेर पहुंच जाएगी।

तीर्थ यात्रियों में खुशियों की लहर: इस ट्रेन के आरंभ हो जाने से अंग प्रदेश क्षेत्र के विभिन्न यात्रियों को दक्षिण भारत के तीर्थ स्थलों की यात्रा करने का लाभ मिलेगा। अन्य प्रदेश के लोग इस ट्रेन के आरंभ होने से काफी खुश हैं। भाजपा जिला अध्यक्ष राजेश जैन ने कहा कि यह ट्रेन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देन है। इस ट्रेन के आरंभ होने से तीर्थ यात्रियों में काफी खुशी की लहर है।

You may have missed

You cannot copy content of this page