बेगूसराय वर्चस्व को लेकर मारपीट, तड़तड़ाईं गोलियां, पुलिस कर रही हैं कैंप

बेगूसराय वर्चस्व को लेकर मारपीट, तड़तड़ाईं गोलियां, पुलिस कर रही हैं कैंप 1

Demo Pic

बेगूसराय -सहायक थाना गढ़हरा अंतर्गत नगर परिषद बीहट के राजवाड़ा में रविवार की रात वर्चस्व को लेकर कई राउंड गोलियां चली।पुलिस के अनुसार जातिसूचक नाम लेने के बाद विवाद हुआ।इस कारण दो जातीय समूह से गोलबंद हो गए। इस घटना के बाद एक पक्ष शत्रुघ्न सिंह का पुत्र राजकुमार और दूसरे पक्ष से देवेंद्र महतो ने केश दर्ज कराया है।मिली जानकारी के अनुसार परम्परागत तरीके से पूर्णिमा(रविवार) को मां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के बाद परम्परागत शान्ति प्रसाद भोज के दौरान ही अशान्ति फैल गयी।स्थानीय लोगों के अनुसार राजवाड़ा मां दुर्गा भगवती स्थान के पूजा आयोजन समिति के सदस्यों ने सहायक थाना गढ़हरा पुलिस के सामने ही हवाई फायरिंग किया।

इस घटना का विरोध करने के क्रम में दोनों पक्षों से करीब आधे दर्जन लोग घायल हुए।वहीं विवाद बढ़ता देखकर स्थानीय लोगों ने सहायक थाना गढ़हरा को सूचना दी।तत्त्क्षण पुलिस बल के द्वारा मामला शांत कराने का असफल प्रयास हुआ। गढ़हरा थाना पुलिस के सामने ही कई राउंड हवाई फायरिंग किया गया।तनावपूर्ण स्थिति होने पर दूसरे पक्ष के लोगों ने गढ़हरा पुलिस की गाड़ी को बंधक बना लिया साथ ही वरीय पदाधिकारी को बुलाकर दोषी व्यक्ति को गिरफ्तारी की मांग करने लगे।थानाध्यक्ष अजीत कुमार व स्थानीय जनप्रतिनिधि के प्रयास से माहौल शान्त किया।इस दौरान शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए बरौनी थाना,जीरोमाइल थाना व फुलवरिया थाना की पुलिस भी पहुंच गई।उपस्थित लोगों ने सात खोखा पुलिस को सौंपा।

इस घटना के बाद स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल बना रहा।पूरी रात वज्र वाहन के साथ पुलिस बल तैनात रही और रात्रि में फ़्लैग मार्च भी किया गया। थानाध्यक्ष अजीत कुमार ने एक व्यक्ति को घायल अवस्था में इलाज के लिए पीएचसी बरौनी भेजा।इधर थानाध्यक्ष ने बताया कि दो पक्षों में झड़प हुई है।मामले की छानबीन की जा रही है। किसी भी सूरत में सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने वाले लोगों को छोड़ा नहीं जायेगा।साथ ही सहायक थाना गढ़हरा की पुलिस वज्र वाहन के साथ सोमवार को भी घटना स्थल पर सुरक्षा के मद्देनजर मौजूद रही।

ये भी पढ़ें   खुशखबरी! पूर्णिया एयरपोर्ट से जल्द भरेगी उड़ान - 12 जिले वासियों को सीधा होगा लाभ..

वहीं दुसरे पक्ष से सम्पर्क करने पर उन्होंने बताया कि जानबूझकर माहौल खराब करने का व्यक्ति विशेष के द्वारा प्रयास किया गया और मंदिर परिसर में सांस्कृतिक मंच निर्माण की घोषणा के बाद ही।कुछ लोगों के बौखलाहट से दोनों पक्षों में तनाव की स्थिति उत्पन्न हुई है।साथ ही सोमवार की शाम इहरा थानाध्यक्ष अजीत कुमार ने शांति सामंजस्य स्थापित करने के लिए दोनों पक्षों के व्यक्ति,जनप्रतिनिधियों, समाजसेवी व बुद्धिजीवी की बैठक बुलाई है।जिससे समाज में शांति व्यवस्था कायम रहे।और दुबारा इस समाज में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो।