4 February 2023

अब बिहार में बनेगा हवाई जहाज का ईंधन – पटना, दरभंगा एयरपोर्ट को बरौनी IOCL करेगा ईंधन की सप्लाई..

IOCL Aviation

डेस्क : औद्योगिक राजधानी बेगूसराय (Begusarai) के बरौनी IOCL आए दिन नए-नए कीर्तिमान हासिल कर रहे हैं। इसी बीच शुक्रवार को IOCL के चेयरमेन ने इंड जेट यूनिट से बरौनी मार्केटिंग टर्मिनल तक एटीएफ (जेट ए-1) फ्यूल के पहले बैच के डिस्पैच का ऑनलाइन शुभारंभ किया। अब बरौनी रिफाइनरी (Barauni Refinery) से उत्पादित ईंधन से नेपाल, बिहार व यूपी के हवाई अड्डों के जहाज उड़ेंगे।

आपको बता दे की बरौनी रिफाइनरी (Barauni Refinery) के कार्यपालक निदेशक एवं रिफाइनरी प्रमुख आर.के. झा (R.K Jha) ने टीम बरौनी रिफाइनरी, बरौनी मार्केटिंग टर्मिनल, बरौनी कानपुर पाइपलाइन, बीटीएमयू और IOCL की उपस्थिति में रिफाइनरी के एटीएफ टैंक 241 के वाल्व को खोलकर बरौनी रिफाइनरी से पाइपलाइन के माध्यम से ATF को बरौनी मार्केटिंग टर्मिनल डिस्पैच किया।

वही, बरौनी रिफाइनरी की कारपोरेट संचार प्रबंधक अंकिता श्रीवास्तव ने कहा कि यह यूनिट स्वदेशी तकनीक इंड जेट पर आधारित है, जिसका अनुसंधान इंडियनऑयल, आरएंडडी सेंटर और मेसर्स ईआईएल ने मिलकर किया है। यह तकनीक कम तापमान और निम्न दबाव हाइड्रो-उपचार प्रक्रिया है जो चुनिंदा रूप से केरो फीड स्ट्रीम से कैप्‍टन को हटाती है। ATF के अलावा, इंड जेट यूनिट को पाइपलाइन कम्पेटिबल केरोसिन (PCK) के उत्पादन के लिए भी डिज़ाइन किया गया है, जिसमें सल्फर 8PPMV की आवश्यकता होती है।

बताते चलें की इंडजेट यूनिट को 2022 के जून में कमीशन किया गया था। उसके बाद ATF का सर्टिफिकेशन सितम्बर में मिला। डिफेंस ग्रेड के ATF की आपूर्ति करने के लिए, सीईएमआईएलएसी (CIMILAC) और डीजीएक्यूए (DGXUA) की वैधानिक स्वीकृति अक्टूबर एवं नवम्बर में प्राप्त हुई। बरौनी रिफाइनरी से उत्पादित एटीएफ राजधानी पटना, दरभंगा, गया और नेपाल के हवाई अड्डों को ईंधन प्रदान करेगा।