सावधान! गर्मियों में Inverter बन सकता है बम! इन लापरवाही से हो सकता है बड़ा हादसा, अभी करें सुधार..

inverter could become a bomb

डेस्क : शुरुआत में जब इन्वर्टर आया तो चंद घरों में ही देखने को मिला। लेकिन अब Inverterआम हो गया है और आजकल ज्यादातर लोग अपने घरों में इन्वर्टर का इस्तेमाल करते हैं। इन्वर्टर घरों में मौजूद मूलभूत आवश्यकताओं में से एक बन गया है ताकि बिजली जाने पर भी घर की रोशनी और पंखे जैसी जरूरतों को पूरा किया जा सके। अक्सर देखा जाता है कि लोग अपने घर, कमरे और जरूरत के हिसाब से इन्वर्टर खरीदते हैं, लेकिन एक बार लग जाने के बाद वे उसकी जरूरी देखभाल नहीं कर पाते।

बैटरी की स्थिति का ध्यान रखें : इनवर्टर में फटने की वजह उसमें लगी बैटरी है। बैटरी की खराब स्थिति से आग लग सकती है और विस्फोट हो सकता है। इन्वर्टर बैटरी की भौतिक स्थिति अच्छी होनी चाहिए। ऐसे में समय-समय पर बैटरी का ख्याल रखना जरूरी है कि आपके इनवर्टर की बैटरी फूले नहीं या कहीं से पिघल न जाए। इसके साथ ही बैटरी पर किसी नुकीली या भारी वस्तु से चोट लगना भी काफी खतरनाक साबित हो सकता है और दबाव या दबाव के कारण बैटरी फट भी सकती है।

समय पर पानी भरना : इन्वर्टर की बैटरी को काम करने के लिए, उसका शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ उसका आंतरिक स्वास्थ्य भी फिट होना चाहिए। एक निश्चित अंतराल के बाद इन्वर्टर की बैटरी में पानी डाला जाता है। ऐसे में यह भी समय-समय पर जांचना जरूरी है कि कहीं बैटरी में पानी का स्तर तो कम तो नहीं हो रहा है। इस पानी को अलग-अलग बैटरी में मापने के लिए अलग-अलग सिस्टम दिए गए हैं। यदि बैटरी में पानी की कमी दिखाई देती है, तो इसे नज़रअंदाज़ न करें और इसे जल्दी से भर दें। पानी की कमी से बैटरी सूख सकती है और बैटरी में आग भी लग सकती है।

वायरिंग ढीली न करें : भारत में प्रकाश में उतार-चढ़ाव की स्थिति आम है। यानी शक्ति घटती-बढ़ती आती है और प्रकाश में उतार-चढ़ाव बना रहता है। यह अस्थिरता बिजली उपकरणों के लिए हानिकारक होती है लेकिन दूसरी ओर यह घर में लगे इनवर्टर को भी प्रभावित करती है, क्योंकि इन्वर्टर लाइट वोल्टेज को नियंत्रित करने का भी काम करता है। बार-बार लगने वाले ये बिजली के झटके इन्वर्टर के तार को भी नुकसान पहुंचाते हैं। खराब या ढीली वायरिंग से शॉर्ट सर्किट हो सकता है और इससे तार या इन्वर्टर में आग लग सकती है। इसलिए कुछ समय बाद वायरिंग को टाइट रखना चाहिए।

वेंटिलेशन जरूरी है : कुछ लोग इन्वर्टर को अपने घर के ऐसे कोने में रखना पसंद करते हैं, जहां ज्यादा हलचल न हो। ज्यादातर ऐसी जगह चुनी जाती है जो बच्चों की पहुंच से दूर हो और दूसरे लोगों की नजर भी कम हो। लेकिन इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि आपका इन्वर्टर और बैटरी ऐसी जगह रखी जाए जहां हवा का वेंटिलेशन ठीक से बना रहे। लंबे समय तक उपयोग और दबाव के कारण इन्वर्टर गर्म हो जाता है और वेंटिलेशन की कमी उसके लिए खतरनाक साबित हो सकती है। हवा के उचित प्रवाह के साथ-साथ यह भी आवश्यक है कि इन्वर्टर रखने की जगह ज्यादा गर्म न हो।

ये भी पढ़ें   BSNL यूजर्स का लूटा दिल - महज 22 रुपये में 90 दिन की वैधता, और क्या चाहिए ?

मैकेनिक से सेवा : यदि किसी मशीन को लम्बे समय तक ठीक से चलाना है तो यह आवश्यक है कि उसकी समय-समय पर देखरेख एवं सेवा की जाए। यही हाल इनवर्टर का है। जहां कई चीजों का अपने आप ख्याल रखा जा सकता है, वहीं कुछ चीजें ऐसी भी हैं जिनके लिए किसी विशेषज्ञ की सलाह या पर्यवेक्षण होना जरूरी है। समय-समय पर अपना इन्वर्टर किसी मैकेनिक या मैकेनिक को दिखाएं ताकि वह इन्वर्टर और बैटरी के सभी पुर्जों का अच्छी तरह से निरीक्षण और मरम्मत कर सके। ऐसा करने से आपका इन्वर्टर लंबे समय तक ठीक से काम कर पाएगा।