Hardik Pandya: जिस मैदान पर 4 साल पहले स्ट्रेचर पर बाहर जाना पड़ा था, उसी पर धमाकेदार प्रदर्शन कर दिलाई जीत

Hardik Pandya

साल 2018 में एशिया कप 50 ओवर फॉर्मेट में खेला जा रहा था. 19 सितंबर, 2018 को भारत और पाकिस्तान के दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में मुकाबला खेला जा रहा था. पाकिस्तानी टीम पहले बल्लेबाजी कर रही थी और और भारतीय गेंदबाज एक के बाद एक विकेट चटका रहे थे.

इसी बीच पारी का 18वां ओवर फेंकने आए ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या. इस ओवर की पांचवीं गेंद पर वह कुछ इस तरह से चोटिल हुए की सही-सही मैदान पर खड़े भी नहीं हो पा रहे थे. हार्दिक की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया था. हालत ये थी कि उन्हें मैदान से बाहर स्ट्रेचर पर ले जाना पड़ा. इसके बाद पूरे मुकाबले में वह कहीं दिखाई नहीं दिए. हार्दिक ने तक गेंदबाजी करते हुए 4.5 ओवरों में 24 रन दिए थे.

हार्दिक के चोटिल होकर बाहर जाने के बाद भारतीय टीम ने धमाकेदार प्रदर्शन जारी रखा और पाकिस्तानी टीम महज 162 रनों पर सिमट गई. लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने सिर्फ 2 विकेट खोकर आसानी से इस लक्ष्य को हासिल कर लिया. हार्दिक पांड्या जिस तरह से मैदान से बाहर जा रहे थे ऐसा लग रहा था कि यह ऑलराउंडर फिर कभी पहले की तरह नहीं खेल पाएगा. हालांकि हार्दिक ने धमेकार वापसी कर सभी आशंकाओं को खत्म कर दिया.

हार्दिक पांड्या ने न सिर्फ धमाकेदार वापसी की है बल्कि वह मैदान पर भी शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और टीम को मैच जिता रहे हैं. 4 साल पहले जिस मैदान से उन्हें स्ट्रेचर पर बाहर ले जाना पड़ा कल उसी मैदान पर उन्होंने धमाकेदार प्रदर्शन कर भारतीय टीम को जीत दिलाई। पहले उन्होंने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को गेंद से परेशान किया और फिर बल्लेबाजी करते हुए उनके गेंदबाजों पर कहर बरपाया.

ये भी पढ़ें   IND vs AUS: इस खिलाड़ी को भारत का नंबर-1 टी20 खिलाड़ी मानते हैं संजय मांजरेकर, टीम को जीता चुका है कई मैच

एशिया कप 2022 के दूसरे मुकाबले में हार्दिक पांड्या ने 4 ओवर गेंदबाजी करते हुए 25 रन देकर 3 विकेट चटकाए. इसके बाद उन्होंने बल्ले से भी 17 रनों में ताबड़तोड़ पारी खेल टीम को जीत दिलाई. इसी शानदार प्रदर्शन के लिए हार्दिक पांड्या को ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ भी चुना गया.

टॉस जीतकर भारतीय कप्तान रोहित शर्मा(Rohit Sharma) ने पहले गेंदबाजी चुनी. भारतीय गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के चलते पाकिस्तान की टीम 147 रनों पर सिमट गई. इसके बाद लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने 19.4 ओवरों में ही लक्ष्य को हासिल कर लिया. इस दौरान भारतीय टीम थोड़ा संघर्ष करती नजर आई. एक वक्त तक भारत को जीत के लिए 34 गेंद पर 59 रनों की जरूरत थी. यहां से हार्दिक पांड्या ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की और जीत टीम इंडिया की झोली में डाल दी.