रोज़ाना सिर्फ इतने घंटे की पढाई करके एक आम युवा भी बन सकता है IAS – समस्तीपुर से UPSC टोपर सत्यम गाँधी ने बताया कैसे बनते है अधिकारी

Satyam Gandhi

डेस्क : UPSC सिविल सर्विसेज 2020 का रिजल्ट घोषित हो चुका है। ऐसे में बिहार के समस्तीपुर जिले के रहने वाले मेधावी छात्र सत्यम गांधी ने वो काम कर दिखाया है जो आजतक किसी ने उनके परिवार से नहीं किया। 2020 के UPSC का रिजल्ट उनका बेहद ही शानदार रहा। जैसे ही उनको मालूम हुआ की यूपीएससी का रिजल्ट आ गया है तो वह तुरंत अपना रिजल्ट देखने के लिए दौड़े दौड़े कंप्यूटर पर गए, जब उन्होंने अपनी आंखों से देखा तो उनको विश्वास नहीं हुआ की वह पास हो गए हैं। उन्होंने दोबारा रिजल्ट खोलके देखा तो उन्हें विश्वास हुआ की वह सच में पास हो गए हैं। उनको एहसास हुआ कि उन्होंने कुछ बड़ा काम किया है, इसके बाद उन्होंने अपने माता-पिता को फोन लगाया और उन्हें खुशखबरी दी।

जैसे ही उसके माता-पिता ने यह सुना तो वह खुशी से झूम उठे और अपने लाडले बेटे सत्यम गांधी को बधाइयां और आशीर्वाद दिया। सत्यम का कहना है कि वह जब कॉलेज में राजनीतिक शास्त्र की पढ़ाई कर रहे थे तो तीसरे साल से ही उन्होंने पूरे मन से तैयारी करना शुरू कर दिया था। उन्होंने कभी भी तैयारी करने के लिए बहाने नहीं किए। वह बिहार में रहकर ही अपनी सेवा देना चाहते हैं। बिहार के ग्रामीण विकास विभाग में वह काम करना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि मैं बिहार में रहकर वहां की ग्रामीण स्तर की समस्याओं से अच्छे से निपटना जानता हूँ।

पढ़ाई के वक्त वह 12 घंटे सिर्फ सेल्फी स्टडी स्टडी किया करते थे। सत्यम का कहना है कि 2019 के मई से वह परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। सत्यम गांधी का कहना है कि हर व्यक्ति को अपने प्रति ईमानदार होने की सख्त आवश्यकता है। ऐसे में जो अभियार्थी आने वाली 2021 की परीक्षा देने वाले हैं उन्हें रोजाना 10 घंटे पढ़ने की जरूरत है। वह अपने साप्ताहिक और मासिक लक्ष्यों को निर्धारित करें और उन पर ध्यान दें। यदि इस परीक्षा में आप गलत योजना बनाते हैं तो आपको असफलता झेलनी पड़ सकती है।

You cannot copy content of this page