इन महान हस्तियों को हुआ अपने ही स्टूडेंट्स से प्यार, समाज से लड़कर रचाई शादी

couple got married as teacher and student

couple got married as teacher and student

डेस्क : अक्सर हम प्यार की अलग-अलग कहानियां सुनते रहते हैं। इसमें बॉलीवुड का एक बड़ा योगदान रहा है जिसके तहत हमें यह जानने पहचानने एवं सुनने का मौका मिलता है की प्यार की कोई सीमा नहीं होती। लोग अपनी सारी हदें पार करके अपने जीवनसाथी को खुद चुनते हैं और इसके लिए वह देश दुनिया से लड़ कर एक दूसरे के साथ प्रेम करते हैं।

वह विवाह कर पवित्र रिश्ते में बंध जाते हैं। आज हम बात करने वाले हैं कुछ ऐसे ही प्रेमी जोड़ों के बारे में जिनके बीच गुरु और शिष्य का रिश्ता रहा है। गुरु और शिष्य का रिश्ता बेहद ही पवित्र रिश्ता होता है ऐसे में इसकी पवित्रता को बनाए रखना अपने आप में काफी कठिन काम होता है जो इन लोगों ने बखूबी करके दिखाया है।

बॉलीवुड के जाने माने गायक सुरेश वाडकर ने पिता की शिष्य से ब्याह रचाया। पद्मा अपने पिता से गाने की शिक्षा प्राप्त करती थी। फिर जब पदमा के पिता की मृत्यु हुई तो वह सुरेश वाडकर से गाने की शिक्षा लेने लगी। वह साथ में कई कंसर्ट्स में गाने लगे और फिर उनको प्यार हो गया। इसके बाद दोनों ने मिलकर यह फैसला लिया की 1998 में वह शादी कर लेंगे और उन्होंने की भी। सुरेश वाडकर के पास माधुरी दीक्षित का भी प्रस्ताव आया था लेकिन उन्होंने माधुरी को पतला बोलकर रिजेक्ट कर दिया था।

अनूप जलोटा ने बेहद ही कम उम्र की जसलीन से प्यार कर शादी की और वह काफी चर्चा में भी आये कुछ समय पहले वह बिग बॉस नाम के रियलिटी शो पर भी जसलीन के साथ नजर आये थे और जमकर सुर्खियां बटोरने में कामयाब रहे थे। अनूप जलोटा ने इस रिश्ते का नाम गुरु और शिष्य का दिया है। भजन सम्राट रहे अनूप जलोटा ने अपनी पहली शादी सोनाली सेठ के साथ की थी। सोनाली सेठ भी उनकी शिष्या रह चुकी हैं और दोनों ने घर के विरुद्ध जाकर यह शादी की थी इसके बाद वह अलग भी हो गए थे।

ऐसी ही एक जोड़ी आभा चौधरी पटना यूनिवर्सिटी से आती है जहाँ पर जूली ने मटुकनाथ चौधरी से विवाह किया था जिनकी उम्र में 30 वर्ष का फासला है। साथ ही मटुकनाथ चौधरी पर उन्ही की यूनिवर्सिटी ने मुकदमा कर दिया था और जूली ने बाद में अध्यात्म का रास्ता चुन लिया। मटुकनाथ को कुछ समय के लिए अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ गया था लेकिन उसके बाद उनको नौकरी मिल गई थी।

You cannot copy content of this page