नए अवतार में आ रही Vande Bharat Express, कम कीमत मिलेगा प्रीमियम सुविधा, इसके सामने राजधानी भी फेल!

vande bharat train

Indian Railway : यात्रियों की सुविधा के लिए भारतीय रेलवे लगातार काम कर रहा है। यात्रियों के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए रेलवे ने पिछले कुछ वर्षों में कई बदलाव किए हैं। अब रेलवे की ओर से कई शहरों को नई वंदे भारत ट्रेन से जोड़ने का काम किया जा रहा है. तमाम खूबियों से लैस यह ट्रेन कई मायनों में राजधानी और शताब्दी से बेहतर है। इसकी खूबियों के बारे में सुनकर लोग यह भी कह रहे हैं कि ‘इसके आगे राजधानी भी फेल हो गई है’।

400 वंदे भारत ट्रेनें चलाने की घोषणा की गई है : 2022 के बजट में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अगले तीन वर्षों में 400 वंदे भारत ट्रेनें चलाने की घोषणा की थी। इनमें से 200 ट्रेनें स्लीपर वंदे भारत होंगी। सरकार की योजना अगस्त 2023 तक 75 शहरों को वंदे भारत ट्रेनों से जोड़ने की है। इसके लिए चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में फास्ट ट्रेन के डिब्बों का निर्माण किया जा रहा है। आइए बात करते हैं इस ट्रेन की खासियतों की, जो इसे राजधानी से भी खास बनाती हैं।

  1. कोच के अंदर की विशेषताएं : वंदे भारत के हर स्लीपर कोच में गद्देदार हल्के बर्थ होंगे। इसके अलावा हर सीट पर लैपटॉप कम मोबाइल चार्जिंग सॉकेट और यूएसबी होगा। इस ट्रेन में हर सीट पर अलग रीडिंग लाइट की भी सुविधा दी जाएगी. थर्ड एसी में चार यात्रियों के लिए स्नैक टेबल, सेकेंड एसी में 3 यात्रियों के लिए एक स्नैक टेबल और फर्स्ट एसी के प्रत्येक केबिन में एलसीडी डिस्प्ले और प्रत्येक यात्री के लिए स्नैक टेबल होगी।
  2. अधिकतम गति : ट्रेन को 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के हिसाब से डिजाइन किया गया है। कुछ रूटों पर रेलवे 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से अपनी रफ्तार का ट्रायल करेगा। प्रत्येक वंदे भारत ट्रेन को 0 से 140 किमी प्रति घंटे की गति तक पहुंचने में 140 सेकंड का समय लगता है।
  3. स्वचालित द्वार : वंदे भारत में पूरी तरह से स्वचालित दरवाजे होंगे। ट्रेन के आंतरिक दरवाजे भी दोनों तरफ के यात्री के आने पर अपने आप खुल जाएंगे। ट्रेन का यह फीचर इसे बेहद खास बनाता है।
  4. CCTV : वंदे भारत के हर कोच में पर्याप्त सर्विलांस कैमरे होंगे। ये कैमरे यात्री क्षेत्र को कवर करेंगे। इससे यात्रियों की यात्रा और भी सुरक्षित हो जाएगी।
  5. यात्री सूचना प्रणाली : जीपीएस आधारित यात्री सूचना प्रणाली ट्रेन को बेहद खास बनाती है। इस सिस्टम से हर स्टेशन की ऑटोमैटिक अनाउंसमेंट हो जाएगी। साथ ही प्रत्येक स्टेशन की जानकारी हिंदी, अंग्रेजी और क्षेत्रीय भाषा में डिस्प्ले पर प्रदर्शित की जाएगी।
  6. इंफोटेनमेंट सिस्टम : यात्री ट्रेन में वाई-फाई आधारित इंफोटेनमेंट सिस्टम का उपयोग करके संगीत सुन सकेंगे। जिससे लंबी से लंबी यात्रा भी सुखद रहेगी।
  7. इमर्जेंस अलार्म और एग्जिट : ट्रेन में 40 से कम यात्रियों के लिए दो आपातकालीन निकास होंगे। यदि 40 से अधिक यात्री हैं, तो आपातकालीन निकास बढ़कर 4 हो जाएगा।
  8. आरक्षण की जानकारी : प्रत्येक यात्री के आरक्षण से संबंधित जानकारी उसकी सीट के पास दिखाई देगी। इस प्रणाली को रेलवे की आरक्षण प्रणाली के साथ एकीकृत किया जाएगा।
ये भी पढ़ें   Indian Railway : अब चलती ट्रेन में वेटिंग टिकट कन्फर्म करने के लिए TTE का झंझट खत्म! जानें - नया नियम..