UPSC टॉपर शुभम कुमार ने कहा- बचपन से ही मैं जिद्दी रहा हूं, इसीलिए आज इस मुकाम तक पहुंचा…

Shubham Kumar UPSC Topper Bihar

न्यूज डेस्क: बिहार में कटिहार जिले के कड़वा प्रखंड के कुम्हारी गांव के स्थानीय लड़के शुभम कुमार ने यूपीएससी की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा, 2020 में टॉप किया है। जिनका मानना ​​है कि प्रत्येक लोक सेवक को ‘पीपुल कनेक्टटेड ‘ होना चाहिए। क्योंकि उससे जमीनी स्तर के लोगों की सेवा करने की अपेक्षा की जाती है।

Bihar katihar boy shubham kumar topper in upsc exam - BIG BREAKING: बिहार  के शुभम बने UPSC टॉपर, बनाया रिकॉर्ड, 2019 में मिला था 290 रैंक – News18  Hindi

यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार और 2019 बैच के आईएएस कुमार विवेक निशांत इस बीच अपने स्कूल विद्या विहार भी गए थे। इस दौरान दोनों ने स्कूल से जुड़ी कई यादें व अपनी सफलता की कहानी अपने जूनियर्स के साथ सांझा की।

success story shubham kumar katihar: Success Story upsc topper shubham  kumar ne bataya kaise ek bihari hai 10 lakh logon par bhari : एक बिहारी  क्या कर सकता है अपने गांव पहुंचे

2020 के यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार ने कहा कि इस रिजल्ट ने मेरी पूरी लाइफ चेंज कर दी। मुझे अब भी विश्वास नहीं हो रहा है कि मैं यूपीएससी टॉप कर गया हूं। उन्होंने बताया जब वह दिल्ली में तैयारी कर रहे थे तो वहां उनके रूममेट निशांत थे। उन्होंने बताया “तब हमलोगों ने नोटिस किया की सवालों के जवाब बेहतर तरीके से कैसे दे रहे हैं। तब हमें याद आया कि विद्या विहार में इन सभी चीजों की प्रैक्टिस कर चूके हैं. प्वाइंट पढ़ाई करने का परिणाम आया है हमलोग यहां हैं। यहां के शिक्षकों का शैक्षणिक गतिविधि के साथ मोरल एजुकेशन पर बहुत फोकस रहा था। यहां पर संस्कार मिला।

upsc topper shubham kumar reached katihar villagers welcomed by blowing  conch shell talked to cm nitish kumar on phone - यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार  पहुंचे कटिहार, ग्रामीणों ने शंख बजाकर किया ...

शुभम बताते हैं जब मैं 6th क्लास में था। तो मेरी रैंक 30-40 के बीच ही राहत थी और उस समय निशांत टॉपर हुआ करता था, फिर मैने खुद से खुद का कंप्टीशन करना शुरू कर दिया जिसके बाद मेरी रैंकिंग सुधरने लगी। मेरे पिता मेरे इंस्प्रेशन है। अपने पिता से हमेशा दूसरों की मदद करना सीखा। वहां से मुझे लोगों की मदद करने का इंस्प्रेशन मिला। जब मैं लोगों के लिए काम करूंगा, तो मुझे संतुष्टी होगी।

वहीं कुमार निशांत विवेक ने जवाब देते हुए कहा मेरे मम्मी और पापा दोनों सरकारी जॉब में थे। दोनों हमेशा कहते थे कि लोगों की मदद से ही संतुष्टी मिलती है। अगर मैं कॉरपोरेट में काम करता तो मैं पब्लिक डोमन से कट जाता। इसलिए पब्लिक डोमेन में आने के लिए यूपीएससी को चुना। अपने पिता से हमेशा दूसरों की मदद करना सीखा। वहां से मुझे लोगों की मदद करने का इंस्प्रेशन मिला.जब मैं लोगों के लिए काम करूंगा, तो मुझे संतुष्टी होगी।

shubham kumar

अपनी पिछले दिनों को याद करते हुए बताते हैं, 2020 यूपीएससी की परीक्षा समाप्त होने के बाद मैं फिर से प्रीलिम्स की तैयारी में जुटा। पापा को कहा कि हो सकता है मुझे आईएएस नहीं मिले पर रिजल्ट आने के बाद मुझे यकीन नहीं हुआ कि मैंने टॉप किया है। मुझे अब भी विश्वास नहीं हो रहा कि मैं टॉपर हूं सफल होने के बाद जीवन में काफी बदलाव आया है। आप रातों रात सिलिब्रिटी हो जाते है। कई बड़े-बड़े नेता जो आपको नहीं जानते हैं वह भी आपको कॉल कर रहे होते है । एक दिन में 500 कॉल व मैसेज आते हैं अब। आपकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है।

You cannot copy content of this page