तेजप्रताप के हट के आगे पिघले लालू यादव, पुत्र ने पिता के दूध व गंगाजल से पखारे चरण

Lalu

डेस्क : राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव तीन वर्ष बाद रविवार को अपेन घर पटना आएं । आरजेडी सुप्रीमों के आते ही उनके परिवार में ड्रामा रूपी खेल शुरू हो गया। इस ड्रामा में हमेशा की तरह लालू के बड़े लाल तेजप्रताप यादव उभरें हैं। तेजप्रताप लालू यादव को अपने घर पर ले जाने को हट करने लगे और धरना पर बैठ गए। उनके जिद को देख कर लालू यादव-राबड़ी देवी अपने बड़े पुत्र के आवास पर पधारें।

तेज प्रताप पिता लालू यादव को अपने आवास पर लाने के लिए बीते कल रविवार की रात कुछ समय धरने पर बैठे रहे। उनकी इस हट से लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी रात साढ़े नौ बजे के करीब बड़े बेटे के घर पहुंचे। जहां तेज प्रताप ने पिता लालू यादव के पैर छूने के साथ-साथ दूध से उनके चरण भी पखारे। जिसके बाद राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने उनको आशीर्वाद देते हुए माथे पर पर हाथ रख दिया।

तेज प्रताप कहते हैं कि ‘मेरे माता-पिता नहीं, बल्कि आज मेरे घर ईश्वर पधारे हैं। उन्होंने आगे कहा कि ‘मैने अपने आवास के बाहर सिर्फ इसलिए धरना दिया था ताकि मेरे भगवान जैसे पिता लालू प्रसाद यादव मेरे आवास पर आ जाएं। भलेही पांच -दस मिनट खातिर ही आएं। परंतु उन्होंने यहां आकर मेरी बात रखी। वे आगे कहते हैं अब उन सामंतवादी ताकतों को समझ गया होगा, जिसने हमको परिवार से अलग करना चाह रहे हैं।

वहीं लालू प्रसाद ने बताया कि उपचुनाव में तारापुर व कुशेश्वरस्थान प्रचार करने उनकी जाने की संभावना है। उन्होंने परिवार के संबंध में सवाल करने पर जवाब दिया कि तेजप्रताप व तेजस्वी दोनो भाई के बीच कोई झगड़ा नहीं है और ना ही परिवार में कोई विवाद है।

You may have missed

You cannot copy content of this page