कोरोना के दूसरे फेज के कम होते ही तीसरे फेज के कगार पर खड़ा है देश, 18 वर्ष से कम के बच्चों पर ज्यादा खतरा!

Corona Third Wave

न्यूज डेस्क : भारत में कोरोना की दूसरी लहर के समाप्त होते ही तीसरी लहर का खतरा मंडराने लगा है। देश के कई राज्यों में कोरोना के केस में वृद्धि को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी चिंता जताई है और सावधान भी किया है कि इस बार बच्चों को संक्रमण का खतरा सबसे अधिक हो सकता है। महामारी अभी खत्म नहीं हुई है ऐसा माना जा रहा है कि तीसरी लहर भले दूसरी लहर जितनी विभीषका न उत्पन्न करें पर संभवतः पूरे देश को फिर से कोरोना को झेलना पड़ सकता है।

अगस्त अक्टूबर हो सकता है तीसरी लहर से प्रभावित इंडियन कॉउन्सिल एंड मेडिकल रिसर्च ने बताया है कि अगस्त से अक्टूबर तक मे सम्भवतः पूरे देश मे कोरोना फैल सकता है। वर्तमान में भी प्रति दिन किसी न किसी राज्य से कोविड केस अभी भी मिल ही रहें हैं। ऐसे में लोगों का कोविड उपयुक्त व्यवहार करना, राज्य सरकारों का कोरोना को लेकर स्वास्थ्य व्यवस्था अभी से सक्रिय रखने की ज़रूरत है। हर रोज कोरोना के नए नए वैरिएंट सामने आ रहे हैं औऱ लोगो की लापरवाही के साथ सरकार ने प्रतिबंधों में ढील दी दी है जो कोरोना के फैलाव का प्रमुख वजह बन सकती है।

बिहार की बात की जाए तो यहाँ जोर शोर से पंचायत चुनाव की तैयारी चल रही है और शिक्षकों का नियोजन कार्य भी चल रहा है और इन सब मे कोविड की सावधानी या नियमों का पालन सही तरीके से नहीं किया जाना बिहार में कोविड का सुपर स्प्रेडर बन सकता है। लोगों को मास्क और सोशल डिस्टेंस जैसे नियमों की धज़्ज़िया उड़ाते हुए देखा जा सकता है। सरकार, पुलिस की तरफ से भी कोई सघन चेकिंग नहीं करने की वजह से खुलेआम सड़कों पर लोग बिना वजह भी घूमते नज़र आ सकते हैं। इस तरह की असावधानी और मनमानी संभवतः फिर से बिहारवासियों को कोविड विनाश के कगार पर लाकर खड़ा कर सकती है।

18 वर्ष से कम के बच्चों पर ज्यादा खतरा दूसरी लहर का विनाश ऑक्सीजन की कमी, दवाओं की किल्लत और अस्पताल में बेड की कमी होने की वजह से भयावह हुआ था। हालांकि इस बार सुविधाओं को दुरुस्त किया जा रहा है। टीकाकरण भी काफी जोर शोर से चल रहा है। अभी तक 26 करोड़ लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। पर इस बार संभावना 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के ज्यादा संक्रमित होने की है जिनके लिए टीकाकरण अब तक नहीं सम्भव हो पाया है। ऐसे में सिर्फ सावधानी से ही सुरक्षा की जा सकती है।

सावधानी बरतने योग्य बातें

  1. घर से बाहर डबल मास्क, फेस शील्ड का उयोग करें और सोशल डिस्टेंस का ध्यान हमेसा रखे।
  2. जितना सम्भव हो बच्चों और बुजुर्गों को घर में रखें।
  3. सेनेटाइजर का उपयोग करें।
  4. बाहर से आने पर बिना कपड़े बदले सैनिटाइजर उपयोग किये छोटे बच्चों को न छुए न पास जाएं ।
  5. शाकाहार का सेवन ज्यादा करें।
  6. बुखार,खाँसी, सीने में दर्द,सांस लेने में परेशानी, स्किन पर परेशानी, गंध औऱ स्वाद का पता न लगना जैसी कुछ भी परेशानी महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं औऱ घर के बाकी सदस्यों से दूरी बना लें।
  7. कोविड के नियंत्रण के लिए टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट-वैक्सीनशन अभियान तो जोरो शोरो से चल रहा है पर सबसे बड़ी जिम्मेदारी व्यक्तिगत बनती है कि सावधानी, सतर्कता ही कोविड की तीसरी विभीषिका से सुरक्षित रख सकती है।

You may have missed

You cannot copy content of this page