December 1, 2022

Indian Railway : रेल यात्रियों की चिंता बढ़ी! स्टेशनों पर 5 गुना महंगा हुआ प्लेटफॉर्म टिकट, जानें – नई कीमत..

Train Ticket

Indian Railway : अगर आप भी ट्रेन से सफर करते हैं तो आपके लिए एक अहम खबर है। रेलवे ने अपने कुछ स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट के दाम में जोरदार बढ़ोतरी की है। इन स्टेशनों पर अब यात्रियों को प्लेटफॉर्म टिकट के लिए पहले की तुलना में 5 गुना ज्यादा भुगतान करना होगा।

Indian Railway : रेल यात्रियों की चिंता बढ़ी! स्टेशनों पर 5 गुना महंगा हुआ प्लेटफॉर्म टिकट, जानें - नई कीमत.. 1

आपको बता दे की कुछ यात्रियों की हरकत को देखते हुए रेलवे ने यह बड़ा फैसला लिया है। दरअसल, इस सीजन में कई स्टेशनों पर यात्री बेवजह अलार्म चेन पुलिंग (ACP) करते हैं। यात्रियों की इस आवाजाही को नियंत्रित करने के लिए सेंट्रल रेलवे जोन ने मुंबई के कई स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट के दाम बढ़ा दिए हैं। ये नई दरें 9 मई से लागू हो गई हैं।

Indian Railway : रेल यात्रियों की चिंता बढ़ी! स्टेशनों पर 5 गुना महंगा हुआ प्लेटफॉर्म टिकट, जानें - नई कीमत.. 2
Indian Railway : रेल यात्रियों की चिंता बढ़ी! स्टेशनों पर 5 गुना महंगा हुआ प्लेटफॉर्म टिकट, जानें - नई कीमत.. 5

प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत में बढ़ोतरी : रेलवे ने इन चुनिंदा स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत 10 रुपये से बढ़ाकर 50 रुपये कर दी है। यानी अब यहां के यात्रियों को प्लेटफॉर्म टिकट के लिए 5 गुना ज्यादा भुगतान करना होगा। लेकिन एक राहत यह भी है कि ये कीमतें 9 मई से 23 मई तक ही लागू रहेंगी। इन स्टेशनों में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, दादर, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, ठाणे, कल्याण और पनवेल स्टेशन शामिल हैं।

Indian Railway : रेल यात्रियों की चिंता बढ़ी! स्टेशनों पर 5 गुना महंगा हुआ प्लेटफॉर्म टिकट, जानें - नई कीमत.. 3
Indian Railway : रेल यात्रियों की चिंता बढ़ी! स्टेशनों पर 5 गुना महंगा हुआ प्लेटफॉर्म टिकट, जानें - नई कीमत.. 6

इन स्टेशनों पर ज्यादा हो रही है चेन पुलिंग : रेलवे का कहना है कि बिना किसी जायज वजह के ये चेन पुलिंग की जा रही है। दरअसल, यात्री देर से आने या स्टेशन से नीचे उतरने और बाहर निकलने के लिए कुछ खींच-तान करते हैं। इस तरह की घटनाओं को लेकर मध्य रेलवे ने सख्ती दिखाई है। मुंबई संभाग में 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक चेन खींचने के 332 मामले दर्ज किए गए हैं। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इनमें से केवल 53 मामले ऐसे हैं, जिनका उचित कारण है, जबकि 279 मामले गैर-जरूरी कारणों से किए गए हैं। रेलवे ने इसके लिए दोषियों से 94,000 रुपये का जुर्माना भी वसूला है।

ये भी पढ़ें   कैसे बनेगा श्रद्धा का डेथ सर्टिफिकेट, जारी करने की जिम्मेदारी किसकी? सामने हैं कई चुनौतियां