पंकज त्रिपाठी ने की थी कॉलेज के दिनों में शादी, चोरी-छुपे पत्नी को रखा बॉयेज़ हॉस्टल में, जानिए क्या हुआ राज़ खुलने पर ?

pankaj tripathi college

डेस्क : बॉलीवुड इंडस्ट्री ने बेहद ही दमदार एक्टर बिहार की धरती से दियें है, जिसमें से एक नाम पंकज त्रिपाठी का आता है। इस वक्त पंकज त्रिपाठी का लोहा फिल्मों में बोल रहा है। आपको बता दें कि उन्होंने ब्लॉकबस्टर सीरीस मिर्जापुर, लूडो और कागज में काम किया है। खास बात यह है कि इनकी रियल लाइफ भी फिल्मों की तरह ही है।

यह किस्सा तब का है जब पंकज त्रिपाठी देश के जाने-माने शो द कपिल शर्मा शो में गए थे। वहां पर कपिल शर्मा ने उनसे पूछा था कि जब आप हॉस्टल में रह रहे थे तो क्या आपकी बीवी भी चोरी छुपे आपके साथ रहती थी ? तब पंकज त्रिपाठी ने कहा हां मेरी बीवी भी साथ रहती थी और फिर कपिल शर्मा ने पुछा की जब बॉयज हॉस्टल में रहते थे तो आपकी बीवी को मुझे लगा कर रहना पड़ता था ? इस पर पंकज त्रिपाठी ने जवाब दिया कि नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

वह बताते हैं कि उनकी पढ़ाई नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से हुई है जहां पर थिएटर के बारे में पढ़ाया समझाया जाता है, साथ ही अनेकों परीक्षाएं भी होती हैं और इस दौरान उनको हॉस्टल में रहना होता है। जब वह एनएसडी की पढ़ाई कर रहे थे तब उनकी शादी हो चुकी थी जिस वजह से उनकी वाइफ भी उनके साथ रह रही थी।

जब पंकज त्रिपाठी के अन्य दोस्तों को यह पता लगा कि वह अपनी वाइफ के साथ रह रहे हैं तब उनके दोस्त भी सजग तरीके से रहने लगे, वह बातें भी ढंग से किया करते, अच्छा व्यवहार भी करने लग गए और कपड़े भी ढंग से पहनने लग गए। इस बात का पता जैसे ही वार्डन को लगा तो उन्होंने पंकज त्रिपाठी को बुलाया और कहा कि अब आप नया घर किराए पर कब ले रहे हैं।

आपको बता दें कि जब पंकज त्रिपाठी अपने कॉलेज में थे तो वह कॉलेज की राजनीति में भी जमकर हिस्सा लेते थे, जिस वजह से उनको 1 हफ्ते के लिए जेल भी जाना पड़ा था इस दौरान उन्होंने पुलिस वालों के डंडे भी खाए हैं। पंकज त्रिपाठी ने कहा कि पुलिस वाले अच्छे से जानते हैं कि किस जगह पर डंडा मारने से फ्रैक्चर नहीं होगा इस बात पर कपिल शर्मा शो में मौजूद सभी लोग ठहाके मार के हंसने लगे थे। पंकज का परिवार एक किसान परिवार हैं जहाँ पर उनके पिताजी किसानी करते थे और एक समय ऐसा था, जब पंकज त्रिपाठी अपनी पत्नी पर आश्रित थे और सोचते थे की वह मज़दूरी करके भी काम चला लेंगे।

You may have missed

You cannot copy content of this page