खुशखबरी! 7वें आसमान से औंधे मुँह गिरे तेल के दाम, अब जानिए क्या है नया रेट

oil rates down from top

Desk : केंद्र सरकार ने कहा कि देश भर में खाद्य तेलों की खुदरा कीमतें वैश्विक बाजार की तुलना में एक साल पहले की तुलना में अधिक हैं, लेकिन अक्टूबर 2021 से इसमें गिरावट आई है। 167 मूल्य संग्रह केंद्रों के रुझान के अनुसार, खाद्य तेलों की खुदरा कीमतें आ गई हैं। देश भर के प्रमुख खुदरा बाजारों में 5-20 रुपये प्रति किलोग्राम की भारी गिरावट आई है।

mustard and oil price

खाद्य तेलों का औसत खुदरा मूल्य : उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को मूंगफली तेल का औसत खुदरा भाव 180 रुपये प्रति किलो, सरसों के तेल का 184.59 रुपये प्रति किलो, सोया तेल का 148.85 रुपये प्रति किलो, सूरजमुखी के तेल का 162.4 रुपये प्रति किलो है। वहीं पाम ऑयल का भाव 128.5 रुपये प्रति किलो था।

खाद्य तेलों की कीमतों में क्या कमी आई है? आंकड़ों से पता चला है कि मूंगफली और सरसों के तेल की खुदरा कीमतों में 1 अक्टूबर 2021 की कीमतों की तुलना में 1.50-3 रुपये प्रति किलोग्राम की गिरावट आई है, जबकि सोया और सूरजमुखी तेल की कीमतें अब 7-8 रुपये प्रति किलोग्राम हैं। रुपये प्रति किलो कम हो गया है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के मुताबिक, अदानी विल्मर और रुचि इंडस्ट्रीज समेत प्रमुख खाद्य तेल कंपनियों ने कीमतों में 15-20 रुपये प्रति लीटर की कटौती की है। जिन अन्य कंपनियों ने खाद्य तेलों की कीमतों में कमी की है उनमें जेमिनी एडिबल्स एंड फैट्स इंडिया, हैदराबाद, मोदी नेचुरल्स, दिल्ली, गोकुल री-फॉयल एंड सॉल्वेंट, विजय सॉल्वेक्स, गोकुल एग्रो रिसोर्सेज और एनके प्रोटीन्स शामिल हैं।

mustard oil price hike

खाद्य तेलों की कीमतें कैसे कम हुईं? मंत्रालय की ओर से, अंतरराष्ट्रीय बाजार में उच्च कीमतों के बावजूद, राज्य सरकारों की सक्रिय भागीदारी के साथ केंद्र सरकार के हस्तक्षेप से खाद्य तेलों की कीमतों में कमी आई है। खाद्य तेल की कीमतें एक साल पहले की तुलना में अधिक हैं लेकिन अक्टूबर से नीचे आ रही हैं। आयात शुल्क में कमी और जमाखोरी पर अंकुश लगाने जैसे अन्य कदमों से सभी खाद्य तेलों की घरेलू कीमतों को नीचे लाने में मदद मिली है और उपभोक्ताओं को राहत मिली है। जान लें कि भारत खाद्य तेलों के सबसे बड़े आयातकों में से एक है क्योंकि इसका घरेलू उत्पादन इसकी घरेलू मांग को पूरा करने में असमर्थ है।उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा कि वैश्विक उत्पादन में कमी और निर्यातक देशों से निर्यात कर/लेवी में वृद्धि के कारण खाद्य तेलों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर दबाव है। इसलिए, खाद्य तेलों की घरेलू कीमतें आयातित तेलों की कीमतों से निर्धारित होती हैं।

ये भी पढ़ें   औरंगाबाद का नाम बदलकर हुआ 'संभाजीनगर', कैबिनेट ने दी मंजूरी..