पीएम मोदी की सुरक्षा में आया ये तेज-तर्रार नस्ल का डॉग- खूबी जानके आप भी घर ला सकते हैं

narender modi one

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सिक्योरिटी का जिम्मा विशेष सुरक्षा बल के हाथों में है। अब पहली बार एसपीजी की दस्ते में देशी नस्ल के कुत्ते मुधोल हाउंड को शामिल किया गया है। जी हां अब इसके बाद से मुधोल हाउंड भी पीएम सिक्योरिटी में शामिल होंगे। मुधोल हाउंड ब्रीड के कुत्ते इतने स्मार्ट होते हैं कि ये पहले से ही भारतीय सेना और कई सिक्योरिटी फोर्स में काम कर रहे है।

पीएम मोदी की सुरक्षा में आया ये तेज-तर्रार नस्ल का डॉग- खूबी जानके आप भी घर ला सकते हैं 1
पीएम मोदी की सुरक्षा में आया ये तेज-तर्रार नस्ल का डॉग- खूबी जानके आप भी घर ला सकते हैं 4

अब इन्हें पीएम सिक्योरिटी के लिए भी एसपीजी ने अपने दस्ते में शामिल किया है। यहां तक कि पीएम मोदी ख़ुद मन की बात में भी इसका जिक्र कर चुके हैं। यह ब्रीड कर्नाटक के बागलकोट इलाके में पाई जाने वाली देश में अपनी विशेष कार्य शक्ति और शिकारी प्रवृत्ति के लिए फेमस है। अमेरिका में इस नस्ल को कैरावान हाउंड कहा जाता है। कर्नाटक के कई इलाकों में इसे करवानी नाम से से भी जानते है। मुधोल हाउंड को सबसे वफादार, शिकारी गुण और स्वस्थ प्रजाति का माना जाता है। इस नस्ल की तो वैसे काफी विशेषताएं हैं लेकिन इसे अपनी वफादारी के लिए जाना जाता है। पतले लेकिन ऊंचे कद के मुधोल हाउंड का जबड़ा बहुत ही मजबूत होता है।

पीएम मोदी की सुरक्षा में आया ये तेज-तर्रार नस्ल का डॉग- खूबी जानके आप भी घर ला सकते हैं 2
पीएम मोदी की सुरक्षा में आया ये तेज-तर्रार नस्ल का डॉग- खूबी जानके आप भी घर ला सकते हैं 5

एक बार यह शिकार को पकड़ ले तो उसके बाद छोड़ता नहीं है। विदेशी नस्ल जर्मन शेफर्ड की तुलना में यह काफी तेज होता है। ऐसा कहा जाता है कि जर्मन शेफर्ड कुत्ते जो काम 90 सेकेंड में पूरा करते हैं, उस काम को भारतीय नस्ल के मुधोल हाउंड सिर्फ 40 सेकेंड में पूरा कर देते हैं। बता दें कि 2017 में वायु सेना में हुए शामिल शिकारी गुण और चुस्ती की वजह से ही पहली बार इन्हें भारतीय सेना में रखा गया था। फिर इसके बाद इन्हें कई और विभागों में शामिल किया गया। कैनाइन रिसर्च एंड इंफॉर्मेशन सेंटर तिम्मापुर ने अप्रैल महीने में दो दो महीने के दो मेल पपीज को एसपीजी को सौंपा था।

ये भी पढ़ें   फीकी पड़ गई ताजमहल की चमक- अब ये हिन्दू मंदिर बना पर्यटकों की पहली चाहत