आज से बदले कॉलिंग के नियम, मोबाइल पर कॉल करने के लिए करना होगा ये, जानिए क्‍या है वजह

calling rule changed from 15 january

calling rule changed from 15 january

डेस्क : भारत की घनी आबादी में टेलीकॉम कंपनियों ने इस वक्त धूम मचा रखी है। आपको बता दें की ट्राई के सर्कुलर में यह बात का जिक्र हुआ था कि अगर किसी भी लैंडलाइन नंबर से मोबाइल नंबर पर कॉल लगाना हो तो उसके लिए ग्राहक को सबसे पहले जीरो लगाना होगा अगर वह जीरो नहीं लगाते हैं तो वह बात नहीं कर पाएंगे।

ग्राहकों को मोबाइल नंबर पे बात करने के लिए लैंडलाइन पर पहले जीरो अवश्य लगाना होगा। इसका मकसद सिर्फ यह है कि किसी भी तरह से बढ़ती हुई आबादी के हिसाब से नंबरों की संख्या बढ़ाई जाए। लेकिन, ट्राई को यह भी सुनिश्चित करना था कि ग्राहकों के नंबर ना बदलें जिससे उसको काफी परेशानी उठानी पड़ सकती है। आपको बता दें कि इस सेवा को एक समय पर सिर्फ एक ही क्षेत्र के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं अगर आप निजी क्षेत्र में इस्तेमाल करते हैं तो आपको जीरो लगाने की कोई आवश्यकता नहीं है।

इस समय टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों का कहना है कि जो भी नंबर आप चाहते हैं वह आसानी से उपलब्ध हो जाएगा और उस पर सभी तरह की सुविधाएं दी जाएंगी। इससे ट्राई कंपनियों के नंबर बनाने की लिस्ट में भी इजाफा हो गया है। जो कि एक फायदेमंद चीज है। ट्राई के दिशा निर्देश को देखते हुए एयरटेल कंपनी ने भी अपने ग्राहकों से यह अनुरोध किया है कि अगर वह एयरटेल नंबर पर बातचीत करना चाहते हैं और लैंडलाइन का भी इस्तेमाल करते हैं, तो लैंडलाइन पर सबसे पहले जीरो लगाएं और उसके बाद एयरटेल नंबर डायल करें।

यह बदलाव करने से कंपनियों को ढाई सौ करोड़ नए नंबरों की लिस्ट आसानी से बनती नजर आ रही है और आने वाले समय में भारत की जनसंख्या भी आसानी से नंबर डायल कर सकती है। बढ़ती आबादी को देखते हुए कंपनियों का कहना है कि आने वाले समय में 11 नंबरों का अंक हो जाएगा इससे पहले अगर आप कोई अन्य कार्य करते हैं, जिसमें सिम की उपयोगिता होती है तो उसके लिए पहले से ही कंपनियां 15 नंबर के सिम का इस्तेमाल करती है लेकिन अगर आप फोन पर बातचीत करने के लिए ही सिम को इस्तेमाल करना चाहते हैं तो उसके लिए फिलहाल 10 नंबर है। आने वाले समय में 11 नंबर हमें देखने को मिल सकते हैं।

You cannot copy content of this page