ट्रेक्टर परेड पे हुई हिंसा में दिल्ली पुलिस ने 8 किसान नेताओ पे दर्ज किया मुकदमा , धीरे धीरे हटने लगे लंगर और टेंट , क्या खत्म हो जाएगा किसान आंदोलन???

Kishan

डेस्क : गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली में हुई हिंसा ने सारे विश्व के सामने देश का सर शर्म से झुका दिया है। अब इस हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस ने करीब 22 एफआईआर दर्ज किए हैं। इसके अतिरिक्त दिल्ली पुलिस ने कल हुई हिंसा के संबंध में करीब 200 लोगों को भी हिरासत में लिया है ।

8 किसान नेताओं पे मुकदमा दर्ज- ट्रेक्टर परेड पे हुई हिंसा के बाद गृह मंत्रालय इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने के मूड में दिख रहा है। गृह मंत्री अमित शाह और पुलिस अधिकारियों के बीच हुई बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया है कि उपद्रवियों से सख्ती से निपटा जाएगा और इस मामले में कोई भी ढिलाई नहीं बरती जाएगी।

गृह मंत्री के साथ मीटिंग के बाद दिल्ली पुलिस ने करीब 8 बड़े किसान नेताओ पे एफआईआर दर्ज किया है। इनमें राकेश टिकैत और योगेंद्र यादव जैसे बडे नाम भी शामिल हैं। दिल्ली पुलिस ने इन 8 नेताओं के ऊपर धारा 307 यानी हत्या का प्रयास, डकैती तथा अन्य कई संगीन धाराओं में एफआईआर दर्ज किया है।

हट रहे हैं लंगर और टेंट- कल हुई हिंसा के बाद यह देखा जा रहा है कि किसानों ने जो अस्थाई प्रदर्शन के लिए अपना टेंट और लंगर शिविरों का निर्माण किया था उसे धीरे-धीरे हटा रहे हैं। यूपी गेट से कई टेंटो और लंगर शिविरों को हटाने की तस्वीरें सामने आई हैं। अब देखने वाली बात ये होगी कि क्या हिंसक प्रदर्शनों की वजह से किसानों का ये आंदोलन खत्म हो जाएगा या किसान अभी भी कृषि कानूनों को वापस लेने की माँग करते हुए राष्ट्रीय राजधानी की घेराबंदी जारी रखेंगे।

You may have missed

You cannot copy content of this page