कभी आपने सोचा आखिर ₹10 वाला पॉपकॉर्न सिनेमाघरों में 10 गुना महंगा क्यों हो जाता है? जानें –

popcorn

डेस्क : मध्यम वर्ग के लोग अक्सर अपने परिवार के साथ मल्टीप्लेक्स में फिल्में देखना पसंद करते हैं, लेकिन कभी-कभी हम पाते हैं कि फिल्में देखते हुए बहुत कम लोग खाने की चीजें खरीदते हैं। क्योंकि मल्टीप्लेक्स में खाने-पीने की चीजों की कीमत सामान्य दर से कई गुना ज्यादा है। मध्यमवर्गीय परिवार अगर खाने पर खर्च करते हैं तो यह उनके लिए बहुत महंगा हो जाता है। सिनेमाघरों में पॉपकॉर्न, चिप्स, पानी आदि की कीमतें बाजार दरों से काफी अधिक हैं।

आइए आज मैं आपको बताता हूं कि सिनेमाघरों में चीजें महंगी क्यों होती हैं। मोदी सरकार का बड़ा कदम, मल्टीप्लेक्स इस महीने बेचेंगे 13 सोने की खदानें अब जबकि लगभग हर शहर में मल्टीप्लेक्स खुल रहे हैं, यह सिनेमा के लिए बदलाव का दौर है। सभी मल्टीप्लेक्स चलाना बहुत महंगा है। मल्टीप्लेक्सर स्नैक्स की लागत से कमाता है, जिसमें व्यय रखरखाव और परिचालन लागत शामिल है।

हालांकि मल्टीप्लेक्स ने कहा कि फिलहाल खाद्य पदार्थों में कोई बढ़ोतरी नहीं की जाएगी। मल्टीप्लेक्स में अधिक स्क्रीन होती हैं, जिससे सिंगल स्क्रीन की तुलना में उन्हें चलाने की लागत 4 से 6 गुना बढ़ जाती है। मल्टीपल प्रोजेक्शन रूम और साउंड सिस्टम की स्थापना के कारण मल्टीप्लेक्स को बनाए रखने की लागत अधिक है। मल्टीप्लेक्स भी एयर कंडीशनिंग से लैस है। पीवीआर का विलय 2022 की शुरुआत में, आईनॉक्स मल्टीप्लेक्स ने देश की दो सबसे बड़ी मल्टीप्लेक्स श्रृंखलाओं को पीवीआर के साथ विलय करने का निर्णय लिया। लोगों ने विलय को मल्टीप्लेक्स उद्योग के लिए दिशा बदलने वाला कदम बताया था।

जानकारों का कहना है कि विलय से फिल्म देखने वालों की सुविधा बढ़ेगी। अगर हम इन दोनों मल्टीप्लेक्स की स्क्रीन की गणना करें तो इसमें कुल 1500 स्क्रीन होंगी। कोरोनावायरस प्रभावित अवधि के दौरान मल्टीप्लेक्स पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। कोरोना वायरस के बाद भी सरकार ने मल्टीप्लेक्स खोलने की इजाजत काफी बाद में दी थी. सिनेमाघरों को काफी नुकसान हुआ।

ये भी पढ़ें   सगाई के 5 साल बाद हुई थी शाहजहां और मुमताज की शादी- इस शर्मनाक वजह से हुई देरी