सुशांत सिंह राजपूत केस में पटना हाईकोर्ट ने दिया अहम निर्देश, जानें पूरा मामला

SSr

डेस्क : पटना हाईकोर्ट में दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मामले पर दोबारा सुनवाई हुई है, बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत अभी भी संदेहास्पद के दायरे में है। पटना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस संजय करोल का कहना है कि इस वक्त स्थिति स्पष्ट नहीं है, जिसके चलते एडिशनल सॉलिसिटर जनरल और एडवोकेट जनरल को निर्देश दिए हैं। निर्देश में कहा गया है की इस मामले पर जल्द से जल्द कार्यवाही की जाए। मुंबई में पढ़ रहे लाइनल ईयर के लॉ छात्र ने इस याचिका को दायर किया है। छात्र का नाम देवेंद्र देवता दीन दुबे है।

इस मामले की पहले भी पटना कोर्ट में भेजा गया था जहाँ सुनवाई हुई थी। सुनवाई के बाद न्यायालय ने नोटिस जारी नहीं किया। न्यायालय ने साफ कहा था कि मामला लंबे समय से अटका हुआ है। ज्यादा जानकारी के लिए बता दें की सुशांत मामले में सीबीआई जांच कर रही है। यदि यह जांच स्पष्ट नहीं होती है तो पटना हाई कोर्ट सीबीआई के डायरेक्टर और केंद्र सरकार को दिशा निर्देश जारी कर सकते हैं। वह ऐसा इसलिए करेंगे क्योंकि लोग चाहते हैं कि इस मामले पर जल्द से जल्द दोषियों को सजा मिले।

ज्यादा जानकारी के लिए बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत भारतीय बॉलीवुड इंडस्ट्री के उभरते हुए सितारे थे। ऐसे में उनकी बहुत बड़ी फैन फॉलोइंग थी उन्होंने अपनी मेहनत के दम पर कई बुलंदियां हासिल की थी। वह एक्टिंग के क्षेत्र में ही नहीं बल्कि अन्य क्षेत्र में भी दिक्कज थे। मुंबई के बांद्रा फ्लैट में उनकी संदेहास्पद मौत से हर कोई स्तब्ध रह गया था। उनकी मौत की जांच में लंबा विलय हुआ था। साथ ही मुंबई पुलिस ने 45 दिन बाद मामला दर्ज किया था।

सुशांत सिंह राजपूत के घरवाले और उनको चाहने वाले लोग इस बात से नाराज हो गए थे। लोगों का मानना है कि 45 दिन के भीतर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के सभी साक्ष्य मिटा दिए गए थे। सुशांत सिंह राजपूत के पिताजी ने 25 जुलाई को पटना के राजीव नगर में मामला दर्ज करवाया था, जिस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने टिप्पणी दी थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्देश जारी किए थे कि जल्द से जल्द इस मामले को सीबीआई के हाथों में सौंपा जाए।

You cannot copy content of this page