बिहार : अब चुटकियों में होगा जमीन का रजिस्ट्री, 102 में रजिस्ट्री ऑफिस में सेवा शुरू, दलालों से मिलेगा छुटकारा..

Jmeen ki registry

डेस्क : जो लोग बिहार में जमीन या फ्लैट खरीदना चाहते है उनके लिए खुशखबरी है। अगर आप भी जमीन या फ्लैट खरीदने जा रहे है तो यह खबर आपके लिए कारगर साबित हो सकती है। बिहार सरकार द्वारा डीडी को मॉडल बना दिया गया है। अब आपको किसी भी दलाल के चक्कर में परने की जरूरत नहीं है अब आप रजिस्ट्री कार्यालय में सीधे जा सकते है जहां आपको मॉडल डीडी के जानकारी देने वाले मिल जायेंगे।

Land Registry Bihar

बिहार के निबंधन कार्यालयों में कातिबों की भूमिका जगजाहिर है। बिना कातिबों के सहायता से कागजात की रजिस्ट्री की कल्पना भी नहीं की जा सकती। लेकिन कातिबों के सहयोग से दस्तावेज रजिस्ट्री कराने पर ग्राहकों को अतिरिक्त रजिस्ट्री एवं स्टांप शुल्क देना पड़ता है। लेकिन निबंधन विभाग ने ग्राहकों को अतिरिक्त राशि से छुटकारा देने का नया विकल्प तलाशा है। निबंधन विभाग के अनुसार अब मॉडल डीड के माध्यम से रजिस्ट्री होगी। इस मॉडल को अपनाने से ग्राहकों को दलालों से छुटकारा मिल जाएगा।

नए नियम के अनुसार अब ग्राहकों को जो भी जानकारी चाहिए रजिस्ट्री ऑफिस से सारी जानकारी मुहैया कराई जाएगी। रजिस्ट्री ऑफिस में अब सारी सुविधाएं उपलब्ध करा दी गई है। ग्राहकों को अब आसानी से सब सुविधाएं मिलेगी। नियमानुसार डीड का प्रिंटआउट भी अब बिल्कुल मुफ्त में मिलेगा। नया नियम पटना समेत बिहार के 102 रजिस्ट्री ऑफिस में शुरू की गई है। नई सुविधा के लागू हो जाने से लोगों का बहुत ही आसानी से काम हो जा रहा है।

किसी भी जानकारी के लिए कातिब के पास भटकना नहीं पड़ रहा है। निबंधन आयुक्त कार्तिकेय धनजी के अनुसार ग्राहकों की सहूलियत के लिए हम मॉडल डीड की तरफ रुख कर रहे हैं। इस डीड की भाषा बहुत ही सरल रखी गई है। वर्तमान में यह डीड हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू भाषा में उपलब्ध है। मौजूदा समय में सेल डीड,पार्टनरशीप डीड समेत अन्य तरह के तमाम डीड को मॉडल बनाया गया है।धीरे-धीरे पूरा रजिस्ट्री ऑफिस इसी का अनुसरण करेगा। अब ग्राहकों को डीड से संबंधित एसएमएस और ईमेल भी मिलेगा। ग्राहकों के लिए शिकायत करने के साथ साथ उसे ट्रैक करने की भी सुविधा दी गई है। ग्राहकों को यह सुविधा एनजीडीआरएस सॉफ्टवेयर के तहत मिलेगा। यह सॉफ्टवेयर भारत सरकार द्वारा बनाई गई है। वर्तमान में आइएलएफएस द्वारा विकसित सॉफ्टवेयर पर निबंधन का काम चल रहा है।

जानिए वर्तमान में कैसे होती है जमीन रजिस्ट्री की प्रक्रिया

  1. सबसे पहले ग्राहकों को http://nibandhan.bihar.gov.in/modeldeed_new.aspx वेबसाइट पर विजिट करने होगी।
  2. रजिस्ट्री फॉर्म को भरने के बाद ऊपर दिए गए साइट पर ही अपलोड करना होता है।
  3. फॉर्म अपलोड करने के बाद, http://bhumijankari.bihar.gov.in/Admin/MVR/MVRParameter.aspx इस साइट पर शुल्क राशि जमा और अपॉइंटमेंट लेना पड़ता है।

लेकिन नया सॉफ्टवेयर से एक बार में ही फॉर्म अपलोड, ऑनलाइन एंट्री, वैल्यूएशन, अप्वाइंटमेंट सब काम हो जाएगा। निबंधन विभाग के आयुक्त कार्तिकेय धनजी ने कहा मॉडल डीड से ग्राहकों को बहुत सुविधा मिल रही है। इससे कातिबों के ऊपर भी भार कम होगा। उन्होंने कहा मॉडल डीड के लागू करने से बहुत ही सकारात्मक प्रभाव देखने को मिल रहा है। एनजीडीआरएस सॉफ्टवेयर पर काम शुरू हो जाने से जमीन रजिस्ट्री की सारी प्रक्रिया ऑनलाइन हो जाएगी। लोगों की सुविधा और राजस्व की प्रक्रिया को ध्यान में रखते हुए इसे क्रमवार तरीके से लागू किया जाएगा।