LNMU में एक मोहल्ले के पांच सीनेट सदस्यों का नियम की धज्जियां उड़ा कर हुआ मनोनयन, रास सांसद राकेश सिन्हा को सौंपा ज्ञापन

Rakesh Sinha

न्यूज डेस्क , बेगूसराय : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यसभा सदस्य राकेश सिन्हा से मिलकर बेगूसराय एवं आसपास के शैक्षणिक समस्याओं से रूबरू कराया l जिसमें मुख्य मांगे बेगूसराय में दिनकर विश्वविद्यालय की स्थापना, बंद पड़े विस्तार केंद्र को चालू कराना, जी डी कॉलेज के ओल्ड हॉस्टल का जीर्णोद्धा ,5 अंगी भूत महाविद्यालयों में पीजी की पढ़ाई प्रारंभ करने, स्नातकोत्तर में सीट वृद्धि, केजी से पीजी तक लड़कियों के लिए मुफ्त शिक्षा ,तेघरा ,बखरी व बलिया अनुमंडल में डिग्री कॉलेज की स्थापना, नियम परिणयम के विरुद्ध 5 सीनेट सदस्य का मनोनयन ,सभी प्लस टू उच्च विद्यालयों को वर्ग कक्ष एवं शिक्षण सामग्री से लैस करने संबंधित मुद्दों पर गहन बातचीत हुई ।

पूर्व राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अजीत चौधरी ने कहा कि बेगूसराय में दिनकर जी के नाम पर विश्वविद्यालय की स्थापना एक भावनात्मक मुद्दा तो है ही साथ ही साथ तकनीकी रूप से भी बेगूसराय जिला 3-3 विश्वविद्यालय बनने की अहर्ता रखता है किंतु यहां एक भी विश्वविद्यालय नहीं हैl मुख्यमंत्री से लेकर कई विभाग के मंत्री एवं पूर्व के जनप्रतिनिधि यहां के छात्र- छात्राओं को विभिन्न मौकों पर ठगने का काम किए है ,किंतु हम लोग मांग पत्र देते -देते आजिज हो चुके हैंl इस पर सांसद महोदय ने कहा कि मैं स्वयं विद्यार्थी परिषद का एक कार्यकर्ता रहा हूं एवं विद्यार्थी परिषद की कार्यशैली से बखूबी परिचित हूं मैंने दिनकर विश्वविद्यालय की स्थापना हेतु स्वस्थ प्रयास किया है। आने वाले समय में इसका परिणाम सामने होगा l

जिला प्रमुख मुकेश कुमार एवं प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सोनू सरकार ने कहा कि यहां के छात्र छात्राओं को चुप कराने के लिए वर्तमान एवं तत्कालीन शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने विस्तार केंद्र खुलवाया l4 वर्ष बीत जाने के उपरांत आज तक एक भी छात्र-छात्राओं का कार्य नहीं हो पाया हैl मंत्रियों एवं जनप्रतिनिधियों के कार्यशैली तथा छात्र समस्याओं के प्रति निष्क्रियता विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं को आंदोलन करने को मजबूर करती हैl 50,000 से अधिक छात्र-छात्रा बेगूसराय जिले में प्रत्येक वर्ष स्नातक उत्तीर्ण होते हैं किंतु उनके स्नातकोत्तर शिक्षण के लिए मात्र एक जीडी कॉलेज है जिसमें भी केवल 3000 सीट हैं l

इसलिए स्नातकोत्तर की पढ़ाई जिले के पांचों अंगी भूत महाविद्यालयों में होनी चाहिएl नगर मंत्री पुरुषोत्तम कुमार ने कहा कि एक पूर्व MLC अपनी ताकत का गलत इस्तेमाल करके अपने सगे संबंधियों को सीनेट में पद दिलवा रहे हैंl दरभंगा विश्वविद्यालय के अंतर्गत 4 जिले आते हैं किंतु सीनेट सदस्यों के मनोनयन में विश्वविद्यालय कानून की हत्या करते हुए केवल दरभंगा के एक ही मोहल्ले लालबाग से ही पांचो सदस्यों को मनोनीत किया गया l

एक ही परिवार से जुड़े हुए पांचों सदस्यों के मनोनयन का अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पुरजोर विरोध करता है एवं कुलपति तथा महामहिम राज्यपाल से यह मांग करती है कि इस मुद्दे को अभिलंब सुलझाया जाए अन्यथा विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता सड़क पर उतरने को बाध्य होंगेl विशेष दल के एक पूर्व एमएलसी यदि अपने राजनीतिक ताकत का इस प्रकार इस्तेमाल करेंगे तो विश्वविद्यालय एक राजनीतिक दल के हाथों का खिलौना बन जाएगा l

स्वाध्याय मंडल के जिला संयोजक दिव्यम कुमार एवं जिला एसएफडी प्रमुख राज दीपक गुप्ता ने कहा कि अपने अपने सगे संबंधियों को सीनेट में पद दिलवाने की प्रथा के खिलाफ विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय का घेराव करेगा एवं राज्यपाल महोदय तथा शिक्षा मंत्री को इस घटना से अवगत कराएगा । रास सांसद ने शीघ्र ही मांगों को प्रमुखता से उठाने एवं इसके समाधान की ओर स्वस्थ प्रयास करने का आश्वासन दिया l

उन्होंने कहा कि विद्यार्थी परिषद की सभी मांगे जायज एवं छात्रों के लिए कल्याणकारी हैl मैं हर संभव प्रयास करूंगा कि आपका मांग शीघ्र पूरा हो क्योंकि मैं बातों में कम और कामों में अधिक विश्वास करता हूंl इन कार्यों के लिए मुझे राज्यपाल तक से अगर मिलना होगा तो मैं मिलूंगा क्योंकि अपनी जन्मभूमि का कर्ज चुकाने का इससे अच्छा अवसर और कुछ नहीं हो सकता हैl मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता राघव सिंह, विद्यार्थी परिषद कार्यकर्ता कौशिक झा, अभिषेक ,निशांत, अनिकेत ,शुभम सहित कई कार्यकर्ता मौजूद थेl

You cannot copy content of this page