बेगूसराय में सड़क निर्माण से पहले मिलाया लाल पक्का बालु में गंडक का उजला बालु

Construction Work

न्यूज डेस्क : बेगूसराय के छौड़ाही प्रखंड क्षेत्र के ऐजनी पंचायत के वार्ड नंबर नौ में सड़क निर्माण से पहले ही घटिया किस्म का मैटेरियल उपयोग किये जाने का मामला प्रकाश आया है।पक्का लखल बालु में गंडक नदी की उजला बालु मिलाकर सड़क निर्माण में उपयोग किये जाने से पहले ही मामले में भ्रष्टाचार की पोल खुल गयी है।ऐजनी पंचायत में इस तरह का मामला प्रकाश में आता रहा है,लेकिन बताया जाता है कि अधिकारियों की संवेदनहीनता और लापरवाही के कारण नाक के नीचे दिन दहाड़े सोमवार को जेसीबी से लाल पक्की बालु में गंडक की उजला बालु को मिलाकर सड़क निर्माण किया जाना था।

ऐन वक्त पर युवा सामाजिक कार्यकर्ता सह ऐजनी पंचायत के भावी मुखिया प्रत्याशी दानिश आलम ने निर्माणस्थल वार्ड नंबर 09 में पहुँचकर जब स्थिति देखा तो आँखे फटी की फटी रह गयी।सामाजिक कार्यकर्ता दानिश ने बताया कि विगत दिनों 07 अप्रैल 2021 को उक्त वार्ड में सड़क निर्माण की राशि वर्ष 2017-2018 में उठाकर निर्माण कार्य तीन वर्ष बाद भी प्रारंभ नहीं होने की लिखित शिकायत बीडीओ छौड़ाही से की थी।

शिकायत के बाद जब बीडीओ प्रशांत कुमार ने मामले को संज्ञान लेकर जाँच पड़ताल आरंभ करवाया तो आनन फानन में सड़क निर्माण कार्य शुरू करने के लिये मेटेरियल गिरवाना शुरू किया गया,और जब मैटेरियल सड़क निर्माण के लिये गिवाया तो पक्का लाल बालु के साथ गंडक से उजला बालु भी निर्माण स्थल पर गिराया गया।तत्काल लोगों को कुछ भी समझ में नहीं आया।युवा सामाजिक कार्यकर्ता दानिश ने बताया कि सोमवार को पंचायत के मुखिया लक्ष्मी यादव की मौजूदगी में लाल बालु के साथ दिन दहाड़े गंडक की उजली बालु को जेसीबी से मिलाकर सड़क निर्माण किया जाना था।उन्होंने बताया कि कार्यस्थल पर किसी भी तरह का बोर्ड भी नहीं लगाया गया है।

उन्होंने बताया कि इसकी शिकायत जब पंचायत सचिव से की गयी तो पंचायत सचिव अनिल कुमार आडवाणी ने एस्टीमेट में उजला बालु मिलाने से इनकार किया।फिर दिन दहाड़े उजला बालु मिलाकर सड़क निर्माण को घटिया करने का इरादा लोगों ने किस तरह से पाल रखा है।यह समझ से परे है.इस बावत सामाजिक कार्यकर्ता दानिश ने सोमवार को बीडीओ छौड़ाही को आवेदन देते हुये जेसीबी से बालु मिलावट किये जाने के साक्ष्य के साथ घटिया निर्माण कराने की असफल कोशिश में शामिल मुखिया कर्मचारी एवं संबंधित लोगों पर कार्रवाई की माँग की है।

सामाजिक कार्यकर्ता ने बताया कि शिकायत के बाद फिलहाल कार्य रोक दिया गया है। बीडीओ प्रशांत कुमार शिकायत मिलते ही एक्शन में आ गये। बीडीओ ने बताया कि सड़क निर्माण में इस तरह की सुचना और लिखित शिकायत प्राप्त हुयी है।सुचना और शिकायत के आधार पर जेई को निर्माण स्थल पर जाँच के लिये भेजा जा रहा है।जेई के रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जायेगी।