पयर्टन स्थल के रूप में विकसित होगा बेगूसराय का सिमरिया घाट,हरिद्वार के हरकी पौड़ी के तर्ज पर बनेगा जानकी पौड़ी

Simaria DHam

सिमरिया धाम / बेगूसराय : बेगूसराय जिले के सिमरिया धाम गंगा घाट को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने को लेकर नए सिरे से इसके विकास की चर्चाएं तेज हो गई है । बताते चलें कि बीते सालों में अर्ध कुंभ और साहित्यिक महाकुंभ लगने के बाद से सिमरिया धाम गंगा घाट की चर्चा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने लगी है। बावजूद इसके धरातल पर संसाधनों की घोर कमी साफ सफाई और विकास से महरूम इस घाट को देखने वाला कोई भी नहीं है ।

फिलवक्त इसके विकास को लेकर आस जगी है बताते हैं कि मिथिलांचल , सीमांचल आदि क्षेत्रों से सालों भर लाखों लोगों का स्थानीय प्रशासन के द्वारा व्यवस्था की बेहतरी के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। बेगूसराय जिले में पर्यटन की अपार संभावनाएं होने के बावजूद भी आजतक बेगूसराय उपेक्षित है। अब आस जगी है कि बेगूसराय में भी पर्यटन के संभावनाओं की तलाश में सिमरिया धाम गंगा घाट को हरिद्वार में स्थित हरकी पौड़ी घाट की तरह विकसित किया जाएगा । बेगूसराय के सिमरिया धाम में आस्था का केंद्र मिथिला की पावन धरती पतित पावनी सिमरिया गंगा नदी तट को विकसित करने एवं छठ पूजा के दौरान बेहतर व्यवस्था को लेकर बुधवार को केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भाजपा नेता व अधिकारियों के संग सिमरिया गंगा नदी तट का जायजा लिया ।

गिरिराज सिंह कहा कि सिमरिया घाट को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की कवायद किया जाएगा । इसके लिए जिला प्रशासन की टीम के साथ बैठकर कार्ययोजना तैयार की जाएगी। गंगा नदी तट पर बेहतर साफ सफाई, बैरिकेडिग एवं प्रकाश की व्यवस्था करने की बात कही। निरीक्षण के दौरान देखा कि किस तरह सिमरिया गंगा नदी तट हरिद्वार की हरकी पौड़ी के तर्ज पर जानकी पौड़ी का निर्माण किया जाए। इसके लिए उन्होंने मौके पर मौजूद अधिकारियों से चर्चा की । सर्वमंगला अध्यात्म योग विद्यापीठ मां काली धाम सिमरिया घाट के संत स्वामी चिदात्मन महाराज के द्वारा दिए गए सुझाव पर हरिद्वार के हरकी पौड़ी के रूप में विकसित करने की बात कही।