आश्रम में आग : बेगूसराय में आशाराम बापू के शिष्य हरिओम स्वरूप के कुटिया में आग लगने से सारा सामान हुआ राख

Ashram me Aag

न्यूज डेस्क , बेगूसराय : बेगूसराय में बीते महीनों में आगलग्गी की घटना आम हो गई है। हर दिन जिले में कहीं न कहीं से आग लगने की खबर मिलना भी आम बात हो गया है। बीते मंगलवार की रात बेगूसराय के गढ़पुरा में एक बाबा के आश्रम में आग लग गयी । जिसके बाद कुछ ही देर में आश्रम धु धु कर जलने लगा और स्वाहा हो गया । मिली जानकारी के अनुसार गढ़पुरा थाना क्षेत्र के कोरैय पंचायत के हरकपूरा गांव में आसाराम बापू के भक्त महात्मा हरि ओम स्वरूप जी का आश्रम था। जिसमें बीती रात आग लग गई और अगलगी में आश्रम का सारा सामान जलकर राख हो गया। आश्रम में रखा हुआ बाबा के रोजमर्रा जिंदगी में उपयोग होने बाले सामग्री में बर्तन पंखा अनाज उठना बिछावन उनके पहचान पत्र का आधार कार्ड मोबाइल आदि सब के सब जल गए।

सुबह के समय में हुई अगलगी की घटना , नींद से जगने के बाद मालूम हुई अललगी की घटना घटित होने के बाद महात्मा हरिओम स्वरूप जी ने बताया कि हर रोज की भांति 3 बजे अहले सुबह जगे थे। जिसके बाद मैं आश्रम में झाड़ू पोछा लगाकर नित्य क्रियाकर्म सम्पन्न करके ध्यान जप में लग गया । ध्यान खत्म होने के बाद देखा कि आश्रम के पीछे से आग की लपटें उठ रही है। आग की लपट देख मैने हल्ला गुल्ला किया , जिसे सुनकर बहुत सारे लोग वहां पहुंचे और आग बुझाने में जुट गए। जब तक आग पर काबू पाया गया तबतक आश्रम के साथ उसके अंदर का सारा सामान जलकर राख हो गया।

15 साल पहले बेगूसराय में आये थे बाबा , यहीं ग़ढ़पुरा में आश्रम बना रहने लगे थे हरिओम स्वरूप जी ने बताया गया कि बेगूसराय जिले में आये हुए मुझे तकरीबन 15 वर्ष हो गया । महात्मा हरि ओम स्वरूप बेगूसराय में आने के बाद ग़ढ़पुरा प्रखण्ड अंतर्गत उक्त अगलगी बाले जगह पर आश्रम बना रहने लगे। धीरे धीरे गांव के दक्षिण तालाब के मुहाने पर फुस के कुटिया में आश्रम का निर्माण कर लिया । सबकुछ सही तरीके से चल रहा था और इस बीच मंगलवार की रात अगलगी से आश्रम तबाह हो गया । हलांकि आग कैसे लगी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। इस घटना को लेकर संपूर्ण गांव के लोग काफी चिंतित है। बताया गया कि महात्मा जी बहुत ही सुंदर विचार के और जग के कल्याण के लिए हमेशा कार्य करते रहते हैं। उनके आश्रम में आग लगी की घटना बहुत ही चिंतनीय विषय है।

You cannot copy content of this page