बिहार में सभी ग्रामीण सड़कों की होगी जियो टैगिंग, 9 हजार KM होगा सड़क का निर्माण

GRAMIN ROAD

न्यूज डेस्क : बिहार में छूटे हुए साढ़े सात हजार टोलों को मुख्य सड़कों से जोड़ने के लिए नौ हजार किमी लंबाई में ग्रामीण सड़क बनायी जायेगी. साथ ही सभी ग्रामीण सड़कों की जियो टैगिंग होगी. इसमें सड़क के फोटो सहित सड़क निर्माण से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध होगी.इस योजना पर ग्रामीण कार्य विभाग ने काम शुरू कर दिया है.

दरअसल राज्य के विभिन्न स्तर के जनप्रतिनिधियों के माध्यम से ग्रामीण कार्य विभाग को ऐसी शिकायतें मिल रही थीं कि कई टोलों और बसावटों में ग्रामीण सड़कें नहीं बनी हैं और उन्हें मुख्य सड़कों से नहीं जोड़ा गया है. ऐसी हालत में विभाग ने मोबाइल ऐप के माध्यम से सर्वे और जांच कराने का निर्णय लिया था. इस सर्वे में सड़क कनेक्टिविटी नहीं होने के बारे में जानकारी मिली.

काम अंतिम चरण में ग्रामीण कार्य विभाग के सूत्रों का कहना है कि 100 से 249 तक की आबादी वाले टोलों को बारहमासी सड़कों के माध्यम से एकल संपर्कता देकर मुख्य सड़कों से जोड़ने की योजना पर काम चल रहा था. इसके तहत 2018-19 में 1751 टोलों को 1500 किमी लंबाई में सड़क बनाकर मुख्य सड़कों से संपर्कता देने की योजना पर काम हुआ था. वहीं, 2019-20 में 1913 किमी लंबाई में सड़क बनाकर करीब दो हजार टोलों को संपर्कता देने की योजना पर काम शुरू हुआ था. इसमें फिलहाल काम अंतिम चरण में है.

You cannot copy content of this page