क्या आप जानते हैं एक Electric Car बनाने में कितना घातक कचरा उत्पन्न होता है? जानकर चौंक जाएंगे आप..

Electric Car

डेस्क : इलेक्ट्रिक कारें उतनी इको फ्रेंडली नहीं हैं जितनी हम सोचते हैं। सोसाइटी ऑफ रेयर अर्थ के अनुसार, जमीन से 57 किलो कच्चा माल (8 किलो लिथियम, 35 किलो निकल, 14 किलो कोबाल्ट) निकालने से 4275 किलो एसिड अपशिष्ट और 57 किलो रेडियोधर्मी अवशेष बिजली बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। गाड़ी। वहीं, ईवी बनाने से 9 टन कार्बन निकलता है, जबकि पेट्रोल के लिए 5.6 टन कार्बन होता है।

इलेक्ट्रिक वाहन 13,500 लीटर पानी की खपत करते हैं, जबकि पेट्रोल कारें लगभग 4,000 लीटर पानी की खपत करती हैं। रिकार्डो कंसल्टेंसी के अनुसार, अगर ईवी को कोयले से चलने वाली बिजली से चार्ज किया जाता है, तो 1.5 लाख किलोमीटर की दूरी तय करने से पेट्रोल कारों की तुलना में केवल 20% कम कार्बन उत्सर्जित होगा। भारत में 70% बिजली कोयले से पैदा होती है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया में किए गए शोध में कहा गया है – 3300 टन लिथियम कचरे में से केवल 2% का ही पुनर्चक्रण होता है, 98% प्रदूषण फैलाता है।

जमीन से लिथियम निकालने से पर्यावरण 3 गुना ज्यादा जहरीला हो जाता है : एरिज़ोना विश्वविद्यालय में पारिस्थितिकी विभाग में एक एमेरिटस प्रोफेसर गाइ मैकफर्सन कहते हैं, लिथियम दुनिया की सबसे हल्की धातु है। यह बहुत आसानी से इलेक्ट्रॉनों को छोड़ देता है। इसी वजह से इसका इस्तेमाल ज्यादातर EV बैटरी में किया जाता है। लिथियम को हरित ईंधन के रूप में महिमामंडित किया जा रहा है, लेकिन इसे जमीन से निकालना पर्यावरण के लिए 3 गुना अधिक जहरीला है।

98.3% लिथियम बैटरी उपयोग के बाद गड्ढे में दब जाती है। जब यह पानी के संपर्क में आता है, तो यह प्रतिक्रिया करता है और आग लगाता है। उन्होंने कहा कि जून 2017 से दिसंबर 2020 तक, यूएस पैसिफिक नॉर्थवेस्ट में एक क्रेटर में बैटरी से आग लगने की 124 घटनाएं हुई हैं। इसके अलावा, जर्मनी के IFO थिंक टैंक द्वारा किए गए शोध के अनुसार, मर्सिडीज C220D सेडान प्रति किमी 141 ग्राम कार्बन उत्सर्जित करती है, जबकि टेस्ला मॉडल 3 181 ग्राम उत्सर्जित करती है।

ये भी पढ़ें   अब देशभर की सड़के प्राइवेट कंपनी बनाएगी - जानिए सरकार ने क्यों किया बड़ा बदलाव..

क्या सभी पेट्रोल और डीजल कारों को EV में बदलने से प्रदूषण का समाधान होगा? MIT Energy Initiative के शोधकर्ताओं के मुताबिक, दुनिया में करीब 20 करोड़ वाहन हैं। इनमें से केवल 10 मिलियन बिजली हैं। यदि सभी को ईवी में बदल दिया जाता है, तो एसिड कचरे के निपटान के लिए पर्याप्त साधन नहीं हैं जो उन्हें बनाने में जाते हैं। ऐसे में सार्वजनिक परिवहन को बढ़ाकर और निजी कारों को कम करके ही ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम किया जा सकता है।

ईवीएस पेट्रोल कारों से बेहतर क्यों हैं? पेट्रोल कारें प्रति किलोमीटर 125 ग्राम कार्बन का उत्पादन करती हैं और कोयले से चलने वाली इलेक्ट्रिक कारें प्रति किलोमीटर 91 ग्राम कार्बन का उत्पादन करती हैं। इंटरनेशनल काउंसिल ऑन क्लीन ट्रांसपोर्टेशन के अनुसार, यूरोप में ईवीएस 69% कम कार्बन है क्योंकि यहां 60% तक बिजली नवीकरणीय ऊर्जा से आती है।

भारत सरकार द्वारा अक्षय ऊर्जा और इलेक्ट्रिक वाहनों के संबंध में क्या लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं? केंद्र का लक्ष्य 70% वाणिज्यिक कारों, 30% निजी कारों, 40% दोपहिया और 80% तिपहिया वाहनों का विद्युतीकरण करना है। साथ ही, 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा द्वारा 44.7% बिजली का उत्पादन किया जाएगा। अभी 21.26 प्रतिशत।