Friday, July 12, 2024
Railway News

Train में रात को सोने को लेकर बदले नियम – जान लीजिए वरना TTE लेगा फाइन….

Railway : आप लोगों ने कभी ना कभी ट्रेन में जरूर सफर किया होगा और इसके आरामदायक और बिना रुकावट वाले सफर का आनंद भी लिया होगा। रेलवे (Railway) यात्रियों की सुविधाओं के लिए कई तरह के नियम बनाते हैं और इन नियमों की पालना नहीं करने पर आपको जुर्माना भी देना पड़ सकता है।

Railway को देश की जीवन रेखा भी कहा जाता है और इसमें हर रोज दो करोड़ से भी अधिक लोग अपनी यात्रा पूरी करते हैं। ट्रेन में सफर करते समय आपको कई चीजों का ध्यान रखना होता है।

यात्राओं की सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए Railway ने कई सारे नियम भी बनाए हैं और आज इस आर्टिकल में हम आपको एक ऐसे ही जरूरी नियम के बारे में बताने वाले हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि रात को सफर करते समय ट्रेन (Train) में सोने का समय क्या है और कौन से काम ऐसे हैं जो आप रात को नहीं कर सकते?

रात को 10 बजे बाद के नियम

ट्रेन में रात को यात्रा करते समय 10:00 बजे बाद कई सारे नियम लागू हो जाते हैं। इसमें रात को 10 बजे बाद यात्रियों के सोने का समय शुरू हो जाता है जबकि 10 बजे बाद TTE किसी भी यात्री को सोते समय परेशान नहीं कर सकता है। इसके अलावा रात को 10 बजे बाद आप ट्रेन में जोर-जोर से बात नहीं कर सकते और तेज आवाज में गाने भी नहीं सुन सकते हैं। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको जुर्माना भी देना पड़ सकता है।

रात को सोने का समय

Railway के नियमों के अनुसार अगर आप ट्रेन में रात के समय सफर कर रहे हैं तो रात को 10:00 बजे बाद से लेकर सुबह 6:00 बजे तक सोने का समय निर्धारित किया गया है। ऐसे में आपकी सीट अगर मिडिल बर्थ (MB) पर है तो आप लोअर बर्थ (LB) पर नहीं बैठ सकते हैं और कोई भी आपको मिडिल बर्थ खोलने से मना नहीं कर सकता है। रात 10 बजे बाद भी TTE आपकी टिकट चेक नहीं कर सकता है लेकिन 10:00 बजे से जो लोग सफर शुरू कर रहे हैं उनकी टिकट चेक कर सकता है।

Durga Partap

दुर्गा प्रताप पिछले 1 सालों से बतौर Editor में के रूप में thebegusarai.in से जुड़े। इन्हें बिजनेस, ऑटोमोबाइल्स और खेल जगत से जुड़ी खबरे को गहराई से लिखने में काफी दिलचस्पी है। पिछले 5 साल से वह कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लगातार योगदान देते रहे हैं। दुर्गा ने MDSU से BCA की पढ़ाई पूरी की है।