भुमि-विवाद में मारपीट में घायल पीड़ित न्याय के लगा रहे थाना का चक्कर , आवेदन देने के बाद जाँच पड़ताल करने तक नहीं पहुँची पुलिस

Land

न्यूज डेस्क : बेगूसराय की छौड़ाही पुलिस पर जांच में दिलचस्पी नहीं लेने का आरोप लग रहा है। छौड़ाही में ओपी थाना क्षेत्र के एकम्बा पंचायत के शेखा टोला निवासी शयाम सुंदर साह को दबंगों ने पीट पीट कर कर अधमरा कर दिया,और थाने में आवेदन देने के तीन दिन बाद भी पुलिस घटनास्थल पर मामले की जाँच पड़ताल करने तक नहीं पहुँची।लिहाजा दबंगों ने बढ़े मनोबल के साथ विवादित जमीन पर निर्माण कार्य जारी कर रखा है।पिटायी से घायल पिड़ित शयाम सुन्दर साह न्याय के लिये कभी सरपंच तो कभी थाना का चक्कर काट रहा है।

मंगलवार को छौड़़ाही थाने पर फरियाद लेकर फिर से पहुँचे पिड़ित शयाम सुंदर साह ने जानकारी देते हुये बताया कि परोड़ा मौजा 46,90,156 एवं खेसड़ा नंबर 1134,1135 तथा 1136 में रकवा 2 कठ्ठा 5 धुर हमें खतियान और केवाला से प्राप्त है।पिड़ित ने बताया कि उक्त रकवा में हमारा 15 धुर हिस्सा है.हमारे ही जमीध पर परोड़ा गाँव निवासी कृष्ण देव साह,संतोष कुमार साह उर्फ पप्पु,अमरेश साह उर्फ पिंटु साह मिलकर जबरन हमारे हिस्से की जमीन पर निर्माण कर रहा था।जब हम रोकने गये सभी मिलकर लाठी डंडा और धारदार हथियार से वार कर सिर फार दिया। हम लहुलुहान हो गये।जब हमें लहुलुहान देखकर हमारा बेटा बचाने आया तो इनलोगों ने हमारे पुत्रों को भी गंभीर रूप से पीटकर जख्मी कर दिया।

इससे पहले घटना की सुचना सरपंच को दिया तो सरपंच ने निर्माण कार्य रोकवा दिया।उसके बाद फिर उक्त लोगों ने निर्माण कार्य शुरू कर दिया।थाने में आवेदन दिया तो चौकीदार के माध्मय से विपक्षी को कार्य रोकने के लिये कहा गया फिर भी निर्माण कार्य चल रहा है।पिड़ित शयाम सुंदर ने बताया कि 9 मई 2021 को ही आवेदन दिये लेकिन पुलिस प्रशासन घटनास्थल पर जाँच पड़ताल करने तक नहीं गयी है,और उक्त लोग निर्माण कार्य जारी कर रखा है।पिड़ित ने मंगलवार को थानाध्यक्ष से मिलकर न्याय की फिर से गुहार लगायी है।पिड़ित के अनुरोध को पुलिस किस रूप में लेकर आगे की कार्रवाई करती है।यह देखनेवाली बात होगी।फिलहाल दबंगो द्वारा निर्माण कार्य बदस्तुर जारी है।पुलिस पदाधिकारी को भेजा जा रहा है,होगी कार्रवाई।घटनास्थल पर पुलिस पदाधिकारी को भेजकर वस्तुस्थिति से अवगत होकर नियमानुसार कार्रवाई की जायेगी।पिड़ित को उचित न्याय मिलेगा।

You may have missed

You cannot copy content of this page