ATM ट्रांजैक्शन फेल के दौरान रूपए कटने पर घबराए नहीं, बैंक देगा आपको इतना मुआवजा, जानें -इसकी पूरी डिटेल..

ATM Money

न्यूज डेस्क: ऐसा कई बार होता है की आपने ATM में से पैसे निकालने की कोशिश की एटीएम(ATM) से ट्रांजेक्शन फेल हो गया। पर फिर भी खाते से पैसे काट लिए गए। दरअसल, इसके मुख्य कारण विफल एटीएम(ATM) लेनदेन एटीएम की खराबी के कारण हो सकता है या एटीएम मशीन नकदी से बाहर हो सकती है। ऐसे में चिंता करने या घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि बैंक आपके खाते में एक निश्चित समय के भीतर राशि जमा कर देता है । यदि आपका एटीएम लेनदेन विफल रहता है और आपका बैंक एक निश्चित समय अवधि के भीतर आपके खाते से डेबिट किए गए धन को वापस नहीं करता है, तो उसे आपको क्षतिपूर्ति करनी होगी,” भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ट्वीट किया जिसमे आरबीआई ने एटीएम से जुड़े सवालों के जवाब अपनी वेबसाइट पर ‘अक्सर पूछे जाने वाले सवालों’ में दिए हैं।

7 दिनों के अंदर करना होगा बैंक को पैसा रिफन्ड: विफल एटीएम लेनदेन के मामले में आरबीआई के निर्देशों के अनुसार, कार्ड जारी करने वाले बैंक को शिकायत की तारीख से 7 कार्य दिवसों के भीतर ग्राहक के खाते में फिर से जमा करके ग्राहक की शिकायत का समाधान निकालने को अनिवार्य किया गया है। आम तौर पर, ऐसा कोई भी लेन-देन बैंक 24 घंटों के भीतर लौटा देता है।

मुआवजा न मिलने पर ऐसे कर सकते है शिकायत दर्ज: यदि बैंक फैलेड ट्रैन्सैक्शन के लेन-देन को जल्दी हल करने में विफल रहता है और इसे 7 कार्य दिवसों से अधिक विलंबित करता है, तो खाताधारक मुआवजे का दावा भी कर सकता है। आरबीआई के नियमों के मुताबिक कार्ड जारी करने वाले बैंक को रुपये का मुआवजा देना होगा। । इस तरह के मुआवजे को प्राप्त करने के लिए, खाताधारक को मुआवजे के लिए पूछने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि बैंक को पैसे खाताधारक के खाते में जमा करना अनिवार्य है। इसके अलावा आरबीआई का ये नियम सभी ऑथराइज्ड पेमेंट सिस्टम जैसे- कार्ड टू कार्ड फंड ट्रांसफर, PoS ट्रांजेक्शंस, IMPS ट्रांजेक्शन, UPI ट्रांजेक्शंस, कार्ड रहित ई-कॉमर्स और मोबाइल ऐप ट्रांजेक्शन पर भी लागू होते हैं। हालांकि, मुआवजे के लिए पात्र बनने के लिए, ग्राहक को विवादित लेनदेन के 30 दिनों के भीतर शिकायत दर्ज करना होगा । शिकायत दर्ज करने के 30 दिनों के भीतर बैंक से जवाब न मिले , तो ग्राहक किसी भी बैंकिंग लोकपाल से संपर्क कर सकता है।

You cannot copy content of this page