हाइवे से हटेगा सारा टोल ब्लॉक- नितिन गड़करी के बयान से खुश हुए वाहन चालक

nitin gadkari

डेस्क : अगर आप भी हाईवे पर टोल चुकाने में परेशानी का सामना कर रहे हैं तो यह खबर आपके बहुत काम की है। क्योंकि केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस समस्या से विराम ले लिया है। अगर आप भी हाईवे पर टोल चुकाने में परेशानी का सामना कर रहे हैं तो यह खबर आपके लिए बहुत काम की है। क्योंकि केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस समस्या से विराम ले लिया है। उन्होंने संसद के सत्र के दौरान यह घोषणा भी की है।

नितिन गडकरी के मुताबिक अब सभी हाईवे से टोल ब्लॉक हटा दिए जाएंगे. क्योंकि नई तकनीक के मुताबिक वाहन चालकों से यात्रा के हिसाब से शुल्क लिया जाएगा। यानी हर वाहन में जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा। जो वाहन मालिक के खाते से लिंक होगा। हाईवे पर आपकी कार जितनी अधिक किमी चलेगी, आपके खाते से उतने ही अधिक पैसे कटेंगे। इसका मकसद यात्रियों की जेब पर टैक्स कम करना है। ताकि यात्रियों को अपनी जेब से फिक्स चार्ज न काटना पड़े।

वास्तव में, सभी राजमार्ग वर्तमान में टोल ब्लॉकों से सुसज्जित हैं। जिस पर फास्टैग के जरिए टोल का पैसा वसूल किया जाता है। इस व्यवस्था में जिन लोगों ने हाइवे का सिर्फ 15 किलोमीटर का इस्तेमाल किया है। उसे एक निश्चित शुल्क भी देना होता है। मेरा मतलब है, उदाहरण के लिए दिल्ली-मेरठ राजमार्ग को लें, यदि आप मुरादनगर से राजमार्ग पर जाते हैं, तो आपको अभी भी केवल 85 रुपये का भुगतान करना होगा। इसके चलते कुछ लोगों ने हाईवे पर चलना बंद कर दिया है। नई व्यवस्था के तहत, आपके द्वारा हाईवे का उपयोग करने वाली राशि ही आपके खाते से काटी जाएगी। यानी अगर मुरादनगर से मेरठ की दूरी 25 किलोमीटर है तो आपके बैंक खाते से 25 रुपये प्रति किलोमीटर अपने आप कट जाएंगे. इससे यात्रियों को काफी सहूलियत होगी।

ये भी पढ़ें   Delhi-Metro की ब्लू लाइन और येलो लाइन के सारे कोच में लगेगा सेंसर - अब ऑनलाइन होगी मॉनिटरिंग

संसद सत्र के दौरान, नितिन गडकरी ने कहा कि वह बहुत जल्द इस सुविधा का शुभारंभ करने जा रहे हैं। इसके बाद फास्टैग और टोल चेकपॉइंट का खेल खत्म हो जाएगा। लेकिन, वे इस जीपीएस सिस्टम को कब शुरू करेंगे? एक तिथि निर्धारित नहीं की गई है। लेकिन इतना तय है कि नई व्यवस्था के तहत बहुत जल्द टोल वसूला जाएगा। परिणामस्वरूप, इस सुविधा से लाखों राजमार्ग यात्रियों को लाभ होगा।